नोएडा, जेएनएन। दिल्ली से सटे नोएडा में गंगाजल पाइप लाइन की सफाई की वजह से पिछले कई दिनों से जलापूर्ति की भीषण समस्या खड़ी हो गई है। नोएडा के ज्यादातर सेक्टरों में लोगों को सप्लाई से पर्याप्त पानी नहीं मिल रहा है। जो थोड़ा बहुत पानी आ रहा है, वह भी सीवर जैसा गंदा और बदबूदार आ रहा है। बार-बार शिकायत के बावजूद लोगों को समस्या का समाधान नहीं मिल रहा है।

जलापूर्ति की इसी समस्या को लेकर सेक्टर 20 स्थित सामुदायिक भवन में शनिवार को नोएडा प्राधिकरण के परियोजना अभियंता व विभिन्न सेक्टरों के आरडब्ल्यूए के पदाधिकारियों साथ बैठक हुई। आरडब्ल्यूए के पदाधिकारियों ने कहा कि यदि जल्द से जल्द इस समस्या का समाधान नहीं किया गया, तो उन्हें मजबूरन कोर्ट का दरवाजा खटखटाना पड़ेगा।

इस दौरान परियोजना अभियंता आरके गोयल व उनकी टीम मौजूद थी। बैठक में सेक्टर 11 से सुरेश कृष्णन ने सेक्टर में हो रहे पानी की सप्लाई की दिक्कतों के बारे में बताया। सेक्टर-12 के राजेंद्र शुक्ला ने कहा कि तीन दिनों से पानी न मिलने पर पानी के टैंकरों से लोगों को लाइन लगाकर पानी लेना पड़ रहा है। इसके पीछे का मुख्य कारण यह है कि प्राधिकरण के अधिकारी लोगों की समस्याओं का समाधान नहीं करना चाहते।

सेक्टर-19 के आरसी गुप्ता ने कहा कि सेक्टर में एक माह से जल आपूर्ति की दिक्कत है। सुबह आधे घंटे ही पानी मिल रहा है। सेक्टर 51 के संजीव कुमार ने बताया कि यदि सेक्टर में पानी की जल आपूर्ति समय रहते ठीक नहीं होती है तो गुणवत्ता व जल आपूर्ति की समस्या को लेकर कोर्ट में याचिका दायर की जाएगी।

इस दौरान फोनरवा के अध्यक्ष एनपी सिंह ने नोएडा के मुख्य कार्य पालक अधिकारी के साथ जल्द ही बैठक कर समस्या उठाने को कहा। इसके अलावा सेक्टर-20 के सुरेश तिवारी ने वहां मौजूद परियोजना अभियंता से विभिन्न सेक्टरों मे हो रही जल आपूर्ति की गुणवत्ता, जगह-जगह पानी माफियों पर नकेल कसने, जल दोहन पर रोक लगाने को कहा। परियोजना अभियंता आर के गोयल ने पानी की समस्या का जल्द ही समाधान करने का आश्वासन दिया। बैठक में आरडब्ल्यूए से सेक्टर 11, 12, 15, 19, 20, 21, 26, 27, 30, 34, 35, 36, 51, 52, 53 आदि सहित कई सेक्टरों के प्रति निधि मौजूद रहे।

फेल हो गए प्राधिकरण के इंतजाम
नोएडा प्राधिकरण हमेशा से दावा करता रहा है कि उसके पास जलापूर्ति की पर्याप्त व्यवस्था है। नोेएडा का दावा है कि उसके पास जल व सीवर का अलग से मास्टर प्लान-2031 बना हुआ है। बावजूद लोगों को इस तरह की समस्या झेलनी पड़ रही है। इससे प्राधिकरण की व्यवस्था पर सवाल खड़े होने लगे हैं। सेक्टरों में पर्याप्त पानी न पहुंचने की वजह से प्राधिकरण टैंकरों से भी पानी की सप्लाई करा रहा है। हालांकि, टैंकरों की संख्या सीमित होने की वजह से लोगों को राहत नहीं मिल पा रही है।