नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। सावन का पवित्र महीना आज यानी रविवार से शुरू हो गया है। ऐसे में भगवान भोलेनाथ के पावन पवित्र महीने में भक्त कोरोना महामारी के कारण बंद किए गए राजधानी के शिवालयों में नहीं आ सकेंगे। भक्त इस साल भी घरों में रहकर ही महादेव की पूजा अर्चना कर सकेंगे। वहीं, अगर कोई भक्त विशेष रूप से राजधानी के मंदिरों में अपने नाम का पूजन कराना चाहता है तो उसके लिए मंदिर समितियों ने व्यवस्था की है।

चांदनी चौक के प्रसिद्ध गौरी शंकर मंदिर को हर साल की तरह इस साल भी रंग बिरंगी रोशनी से सजाया गया है। मंदिर समिति से जुड़े पदाधिकारियों का कहना है कि सावन के सभी सोमवार में भगवान महादेव और मां पार्वती का विशेष श्रृंगार किया जाएगा। इसके अलावा मंदिर के अंदर झांकियां सजाई जाएंगी।

प्रबंधक तेज प्रकाश शर्मा का कहना है कि इस साल मंदिर में भक्तों के प्रवेश को लेकर अनुमति नहीं मिली है, लेकिन इसको लेकर बात की जा रही है। हालांकि, जब तक अनुमति नहीं मिलेगी तब तक किसी को भी प्रवेश नहीं दिया जाएगा। इसके लिए सड़क पर बैरिके¨डग की गई है। साथ ही दिल्ली पुलिस की मदद भी ली जा रही है।

उधर, झंडेवालन मंदिर के प्रबंधक रविंद्र गोयल का कहना है कि भक्तों को घर से ही पूजन का प्रबंध किया गया। भक्त मंदिर के नंबरों पर काल कर अपने पूजन की जानकारी साझा कर सकते हैं। भक्तों के लिए मंदिर बंद रहेगा। इसके अलावा नई दिल्ली और पुरानी दिल्ली के अन्य शिव मंदिरों में भी कोरोना नियमों का पालन किया जाएगा। मंदिर में नियमित रूप से सुबह शाम भगवान की आरती की जाएगी, जिसमें मंदिर समिति के लोग और पुजारी ही शामिल रह सकेंगे।

उधर, पश्चिमी दिल्ली के जनकपुरी स्थित राम मंदिर, तिलकनगर स्थित सत मंजिला, हरी नगर के संतोषी माता मंदिर में भी सावन को लेकर तैयारियां पूरी हो चुकी हैं। भक्तों को आनलाइन दर्शन की व्यवस्था कराई जाएगी। इसके अलावा मंदिर से आरती के दर्शन भी भक्तों को भेजे जाएंगे।

यमुनापार में भी सजे शिव मंदिर

सावन का हर दिन शिव भक्तों के लिए बेहद खास होता है। खासतौर से सोमवार को व्रत रखकर भगवान शिव की पूजा कर जल चढ़ाते हैं। यमुनापार के यमुना विहार सी-आठ के शिव शक्ति मंदिर, पुरानी अनारकली स्थित सिद्ध पीठ श्री सीताराम संत सेवा मंदिर व शाहदरा गोरख पार्क स्थित श्री राजमाता झंडेवाला मंदिर के समितियों के पदाधिकारियों का कहना है कोरोना महामारी के चलते सरकार के दिशा निर्देश व नियमों का विशेष ध्यान रखा जाएगा। मंदिर में साफ सफाई शुरू कर दी है ताकि मंदिर में आने वाले हर पुजारी को भी थर्मल स्क्रीनिंग की जाएगी।

Edited By: Mangal Yadav