नई दिल्ली, जागरण संवादताता। जूनियर पहलवान सागर धनखड़ हत्याकांड में पहलवान सुशील कुमार को मुख्य आरोपित बनाया गया है। दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच (Delhi Police Crime Branch) ने सोमवार को रोहिणी कोर्ट में आरोप पत्र दायर कर दिया है। इनमें पूर्व ओलिंपियन सुशील कुमार सहित 13 के नाम शामिल हैं। अदालत में दायर 1,700 पन्नों के आरोप पत्र में चार चश्मदीद समेत 155 गवाह बनाए गए हैं। जिन चार को चश्मदीद गवाह बनाया गया है, वे सभी सागर के दोस्त हैं। सुशील और उसके साथ आए पहलवानों व बदमाशों ने इन गवाहों की भी पिटाई की थी। अन्य गवाहों में छत्रसाल स्टेडियम के निजी सुरक्षा गार्ड व कर्मचारी शामिल हैं। सबूत के तौर पर सीसीटीवी फुटेज, सुशील के साथी द्वारा मोबाइल से बनाए गए मारपीट के वीडियो और स्टेडियम के कर्मचारियों के बयान, आरोपितों की मोबाइल काल डिटेल रिकार्ड, आरोपितों की कारों से बरामद लाठी-डंडे व हथियार और उनकी गाड़ियां आदि शामिल हैं।

गंभीर धाराओं में दर्ज हैं केस, फांसी की सजा भी संभव

आरोपितों पर हत्या, गैर इरादतन हत्या के प्रयास, अपहरण, दंगा करने, लूटपाट, डकैती, कोरोना के समय सरकारी आदेश का उल्लंघन, जबरन रोकने, गंभीर चोट पहुंचाने, जबरन घर में घुसने, जान से मारने की धमकी, लूट, आपराधिक साजिश रचने, आर्म्स एक्ट की धाराओं में आरोप पत्र दायर किया गया है। उक्त धाराओं के अनुरूप कोर्ट के समक्ष सुबूत पेश करने पर आरोपितों को अधिकतम फांसी व न्यूनतम उम्रकैद की सजा हो सकती है।

बता दें कि आरोप है  कि 4-5 मई की रात को बाहरी दिल्ली के छत्रसाल स्टेडियम परिसर में सुशील कुमार ने अपने साथियों के साथ मिलकर जूनियर पहलवान सागर धनखड़ को इस कदर पीटा कि बाद में उसकी मौत हो गई। हत्या के बाद फरार हुए मुख्य आरोपित सुशील कुमार को बड़ी मुश्किलों के बाद गिरफ्तार किया था।

Edited By: Jp Yadav