नई दिल्ली [संजीव गुप्ता]। वरिष्ठ कांग्रेसी नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री अजय माकन के साथ 36 का आंकड़ा रखने वाले पूर्व सांसद और पूर्व प्रदेश अध्यक्ष जयप्रकाश अग्रवाल भी शीला दीक्षित के घर उन्हें बधाई देने पहुंचे। इससे संकेत मिल रहा है कि जो गुटबाजी पार्टी में अजय माकन के समय थी, शायद अब न रहे। जेपी के अलावा पूर्व सांसद महाबल मिश्र, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सुभाष चोपड़ा, अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सदस्य ओमप्रकाश विधूड़ी, पूर्व मंत्री रमाकांत गोस्वामी और पूर्व विधायक अनिल चौधरी सहित और भी कई नेता शीला को शुभकामनाएं देने उनके घर पहुंचे।

तीनों सिपहसालारों की होगी अपनी रियासत

प्रदेश कांग्रेस की नवनियुक्त अध्यक्ष शीला दीक्षित के तीनों सिपहसालारों यानी कार्यकारी अध्यक्षों की अपनी अपनी रियासत (कार्यक्षेत्र) होगी। इसके लिए भौगोलिक दृष्टि से दिल्ली को तीन हिस्सों में बांटा जाएगा। यह सारी कवायद विपक्ष पर वार करने के लिए होगी। इसके अलावा प्रदेश कार्यकारिणी सहित अन्य सभी कमेटियां भी इसी माह घोषित कर दी जाएंगी। इन कमेटियों में नए लोगों को जोड़ने के साथ-साथ पुराने नेताओं को भी पूरा सम्मान दिया जाएगा।

दरअसल, शीला के नीचे तीन कार्यकारी अध्यक्ष बनाने की योजना के साथ ही पार्टी की कार्यप्रणाली का भावी खाका भी पहले ही तैयार कर लिया गया था। इस पर अब तेजी से काम होगा। लोकसभा चुनाव को देखते हुए पार्टी जल्द से जल्द टीम को मैदान में लाना चाहती है। प्रदेश प्रभारी पीसी चाको की ओर से इस आशय के संकेत नवनियुक्त पदाधिकारियों को दे दिए गए हैं।

पार्टी सूत्रों के मुताबिक कामकाज में कहीं कोई समस्या न आए, इसके लिए तीनों कार्यकारी अध्यक्षों का कार्यक्षेत्र बांटा जाएगा। यह कार्यक्षेत्र उनकी पकड़ और जातिगत समीकरणों के आधार पर तय हो सकता है। इसके अलावा जो प्रदेश कार्यकारिणी अजय माकन के कार्यकाल में घोषित नहीं हो सकी, वह अब अधिकतम 10 दिनों में गठित कर दी जाएगी। इसके साथ ही चुनाव प्रचार समिति व अन्य समितियां भी जल्द ही बना दी जाएंगी।

पार्टी सूत्रों के मुताबिक नई कार्यकारिणी में निस्संदेह नए लोग तो शामिल किए ही जाएंगे, लेकिन पार्टी के पुराने वफादार व उपेक्षित चल रहे नेताओं को भी समायोजित करने का प्रयास रहेगा। चाको का निर्देश और शीला की कोशिश सभी को साथ लेकर चलने की है।

16 को धूमधाम से की जाएगी ताजपोशी

दिल्ली कांग्रेस की नवनियुक्त अध्यक्ष शीला दीक्षित की ताजपोशी मकर संक्रांति के बाद 16 जनवरी को धूमधाम से होगी। इसके लिए प्रदेश पार्टी कार्यालय राजीव भवन को सजाया जाएगा और समारोह भी होगा। शुक्रवार की शाम पांच बजे नवनियुक्त अध्यक्ष के आवास पर इस संबंध में कार्यकारी अध्यक्षों हारुन यूसुफ, राजेश लिलोठिया और देवेंद्र यादव के साथ अनौपचारिक बैठक हुई। आधे घंटे की बैठक में संगठन के विस्तार पर चर्चा हुई। इसमें शीला की ताजपोशी पर पार्टी की सभी इकाइयों के नेताओं को आमंत्रित करने का निर्णय लिया गया, ताकि कांग्रेस के दोबारा खड़े होने का संदेश जाए।

दिल्ली-एनसीआर की महत्वपूर्ण खबरों के लिए यहां पर क्लिक करें

Posted By: JP Yadav

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप