नई दिल्ली, [अरविंद कुमार द्विवेदी]। नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) व एनआरसी के विरोध में दिल्ली-नोएडा मार्ग पर शाहीन बाग के सामने 15 दिसंबर से धरने पर बैठे लोगों के कारण 27 दिन से यह मार्ग पूरी तरह से बंद है। इसके कारण कालिंदी कुंज से होकर नोएडा से दिल्ली व फरीदाबाद आने-जाने वाले लाखों लोगों को परेशानी हो रही है। वहीं, इस धरने क कारण स्थानीय लोगों के सब्र का बांध टूट रहा है।

एक तरफ जहां इस मामले में पुलिस मूकदर्शक बनी हुई है। वहीं, कुछ शरारती तत्वों का पुलिस की इस उदासीनता से मन बढ़ता जा रहा है। बृहस्पतिवार देर रात कुछ शरारती तत्वों ने सरिता विहार पॉकेट-ए का एग्जिट पत्थर लगाकर बंद करना चाहा। यह एग्जिट दिल्ली-नोएडा मार्ग पर जसोला डिस्ट्रिक्ट सेंटर के सामने बने पेट्रोल पंप के पास खुलता है। स्थानीय लोगों के विरोध व पुलिस के हस्तक्षेप के बाद आरोपितों ने मार्ग खोला वहीं, बताया जा रहा है कि आरोपितों ने पेट्रोल पंप के कर्मचारियों से भी बदसुलूकी की। डीसीपी चिन्मय बिश्वाल ने बताया कि सड़क खाली कराने के लिए सभी संभव प्रयास किए जा रहे हैं।

पुलिस ने खड़े किए हाथ, ऊपर के आदेश का इंतजार : सरिता विहार आरडब्ल्यूए के एक पदाधिकारी ने बताया कि मदनपुर खादर गांव व सरिता विहार कॉलोनी के आरडब्ल्यूए के एक प्रतिनिधिमंडल ने मंगलवार को डीसीपी चिन्मय बिश्वाल से मुलाकात कर धरना समाप्त करने की अपील की थी। लेकिन, उन्होंने ऊपर से आदेश होगा तभी कुछ किया जा सकता है कहते हुए हाथ खड़े कर दिए। वहीं, सरिता विहार निवासी सुमन बिरमानी ने बताया कि उन्हें आश्रम होते हुए नोएडा जाने में पांच घंटे लग गए। जबकि बमुश्किल से आधा घंटा लगता था।

10 किमी जाने में लग जाते हैं चार घंटे

शाहीन बाग धरने के कारण दिल्ली-नोएडा-फरीदाबाद आने-जाने वाले लाखों लोगों को कई किलोमीटर का चक्कर काटकर आना-जाना पड़ता है। वहीं, इस मार्ग के बंद होने के कारण रिंग रोड, मथुरा रोड व डीएनडी पर यातायात का अतिरिक्त दबाव पड़ रहा है। इसके कारण इन मार्गो पर भयंकर जाम लग रहा है।

मदनपुर खादर गांव निवासी अशोक बिधूड़ी ने बताया कि शाहीन बाग धरने को हटाने के लिए स्थानीय लोग भी अब आंदोलन करेंगे। रविवार को मदनपुर खादर गांव के खारीकुआं चौपाल पर आसपास के दर्जन भर गांवों की पंचायत बुलाई गई थी। अशोक ने बताया कि इसमें खिजराबाद, तैमूर नगर, सराय जुलैना, भरत नगर, जसोला, मदनपुर खादर, आली गांव, आली विस्तार, बदरपुर, जैतपुर, मीठापुर, जेजे कॉलोनी समेत आसपास के तमाम गांवों के लोग शामिल हुए थे। पंचायत में तय किया गया कि अगर शनिवार तक यह धरना हटवाकर सड़क खाली नहीं करवाई गई तो रविवार को इन गांवों के हजारों लोग डीसीपी ऑफिस पर धरना देकर मथुरा रोड को जाम कर देंगे।

Posted By: Pooja Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस