नई दिल्ली [जेएनएन]। समाज में बदलाव और विकास लाने वाले दस लोगों को सम्मानित करते हुए सिने अभिनेत्री शबाना आजमी ने कहा कि आज जिन लोगों को सम्मान मिला है, उन्हीं की वजह से देश में इंकलाब आएगा। इनमें कुछ कर गुजरने की क्षमता है। तमाम सुविधाएं होने के बाद भी जो काम हम लोग नहीं कर पा रहे हैं, उसे इन लोगों ने अपनी जीवटता से कर दिखाया।

इंडिया हैबिटेट सेंटर में आयोजित कार्यक्रम में सभी विजेताओं को स्मृति चिह्न व प्रशस्ति पत्र देकर प्लान इंडिया इम्पैक्ट अवा‌र्ड्स से सम्मानित करते हुए आजमी ने कहा कि पर्दे पर दिखने वाले नहीं बल्कि ये देश के सच्चे हीरो हैं।

गौरतलब है कि दो सौ से ज्यादा लोगों के नामांकन के बाद चयन समिति ने दस लोगों को अवॉर्ड के लिए चुना है। इस दौरान आजमी ने कहा कि ऑक्जीलरी नर्स मिडवाइव्स (एएनएम) को साइकिल भी मिलनी चाहिए ताकि वह गांव के दूर दराज इलाकों में जा सके।

इस मौके पर प्लान इंडिया की कार्यकारी निदेशक भाग्य श्री डेगले ने कहा कि फ्रंटलाइन सामुदायिक कार्यकर्ताओं के अथक प्रयासों से प्लान इंडिया का कार्य संभव हुआ है, जो कड़ी मेहनत करके समाज के सबसे वंचित समुदाय तक पहुंचे है। इस मौके पर प्लान इंडिया के पूर्व चेयरपर्सन गोविंद निहलानी, प्लान इंडिया बोर्ड के चेयरपर्सन विनय झा और उदयसेन उपस्थित रहे। इस मौके पर विभिन्न कलाकारों ने सांस्कृति कार्यक्रम भी प्रस्तुत किए।

इन लोगों को मिला पुरस्कार

बाल विवाह और बाल अधिकारों के लिए गांव में कार्य करने पर उत्तर प्रदेश के अंबेडकर नगर की शालिनी को युवा चैंपियन की श्रेणी में सम्मानित किया गया। बिहार के जमुई से संजय मुरमू को विशेष श्रेणी में माओवादी इलाके में बच्चों की शिक्षा व रोजगार के लिए काम करने पर सम्मानित किया गया। राजस्थान के भरतपुर से मदीना और सीमा देवी को आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और आंगनबाड़ी सहायिका के लिए कार्य करने पर सम्मान मिला।

बेहतरीन नर्स की श्रेणी में उत्तर प्रदेश के महाराजगंज की मीरा देवी को सम्मानित किया गया। उत्तराखंड के उत्तरकाशी में आशा वर्कर विनीता नेगी को तो झारखंड की बसंती जारिका को गांव में सामुदायिक शौचालय निर्माण कराने व ओडिशा के भागावन को गांव को शराब से मुक्ति दिलाने के लिए सम्मानित किया गया। भारती बिसवाल को आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के रूप में कार्य करने के लिए विशेष श्रेणी में सम्मानित किया गया। असम के शरीफ उदीन तपदार को गर्भवती महिलाओं के स्वास्थ्य पर काम करने के लिए सम्मान मिला।

ऐसे हुआ विजेताओं का चयन

प्लान इंडिया इम्पैक्ट अवार्ड के लिए चार चरणों में चयन किया गया। इसके पहले चरण में 13 राज्यों से सहयोगी संस्थाओं द्वारा नामाकंन मंगाए गए। इसके बाद दूसरे चरण में 58 नामाकंन का राज्यस्तरीय निर्णायक समिति द्वारा चयन किया गया। तीसरे चरण में 24 नामाकंनों को 9 राज्यों द्वारा चयनित किया गया। अंतिम और चौथे चरण में राष्ट्रीय निर्णायक समिति ने प्रत्येक श्रेणी से एक विजेता को चयनित किया। 

यह भी पढ़ें: मुंबई के फिल्मकारों को भा गई दिल्ली, शूटिंग के लिए आवेदनों में 4 गुना इजाफा

यह भी पढ़ें: ...तो इस वजह से 26 वर्षों तक नहीं बन सका शौचालय, 2 गुटों में बंटे हैं दुकानदार

Edited By: Amit Mishra