नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। मंगोलपुरी स्थित मस्जिद में निजामुद्दीन के तब्लीगी मरकज में आयोजित जमात में शामिल हुए सात इंडोनेशिया के नागरिक मिले हैं। सभी नागरिक जमात से लौटकर मस्जिद में रह रहे थे। रक्त के नमूने लेने के बाद इन्हें क्वरंटाइन होम में भेज दिया गया है। 

जानकारी के अनुसार मंगोलपुरी मस्जिद के ब्लाॅक में मौजूद है। कोरोना के संक्रमण को देखते हुए पुलिस की टीम जमात से लौटे लोगों की तलाश कर रही थी। इस दौरान पता चला कि कुछ विदेशी नागरिक जमात से लौटकर मस्जिद में ठहरे हुए हैं। पुलिस जब मस्जिद में पहुँची तो वहां सात विदेशी नागरिक मिले। पूछताछ में पता चला कि ये सभी लोग 21 मार्च से रह रहे थे। ऐसे में इसकी जानकारी जिला प्रशासन को दी गई। अब इस बात की भी जांच की जा रही है कि ये विदेशी नागरिक इस दौरान कहां कहां ठहरे थे और कौन कौन इनके सम्पर्क में आया था।

वहीं जहांगीरपुरी ई ब्लाक स्थित मस्जिद में भी जमात से आए लोगों के ठहरने की सूचना मिली थी। जांच में पाया गया कि मस्जिद में 10 बांग्लादेशी नागरिकों समेत 25 लोग ठहरे हुए थे लेकिन ये लोग 25 दिन से पहले से यहां रह रहे थे। स्वास्थ्य जांच के बाद इनमें कोरोना के लक्षण भी नहीं पाए गए हैं।

वहीं, दक्षिणी दिल्ली के तुगलकाबाद रेलवे कॉलोनी में मंगलवार देर रात 170 कोरोना संदिग्धों को लाकर क्‍वारंटाइन किया गया है। रेलवे व पुलिस के विश्वस्त सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार, यहां खाली कराए गए डीजल शेड के हॉस्टल में 100 लोगों को क्वॉरेंटाइन किया गया है। वहीं, 70 लोगों को आरपीएफ के खाली कराए गए बैरक में क्‍वारंटाइन किया गया है। मंगलवार रात करीब 10 बजे तीन डीटीसी बसों में 170 लोगों को स्वास्थ्य विभाग की टीम लेकर आई है। रेलवे के वरिष्ठ डॉक्टरों की निगरानी में इन सभी को रखा गया है। बताया जा रहा है कि सभी लोग निजामुद्दीन के मरकज से लाए गए हैं।

दिल्‍ली-एनसीआर की खबरों को पढ़ने के लिए यहां करें क्‍लिक

Posted By: Prateek Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस