नई दिल्ली (ललित कौशिक)। आमजन खासकर युवाओं को श्रीमद् भगवदगीता का महत्व समझाने के लिए वैज्ञानिक द्वारा ऑडियो एलबम तैयार किया गया है। यह एलबम मध्य प्रदेश के भोपाल स्थित निजी फार्मा कंपनी में वरिष्ठ महाप्रबंधक के पद पर कार्यरत 55 वर्षीय डॉ. डी. मुरली कृष्णा ने तैयार किया है। तीन वर्ष की मेहनत के बाद यह एलबम तैयार हो सका है।

दिल्ली के आंध्र भवन में आयोजित कार्यक्रम के दौरान उन्होंने दैनिक जागरण को बताया कि यह ऑडियो एलबम दुख एवं अवसाद को दूर करने तथा जीवन में सुख-शांति प्राप्त करने के लिए बनाया गया है। इसमें श्रीमद् भगवदगीता के चुनिंदा 108 श्लोक हैं, जो प्रेरणा, आत्म-नियंत्रण, व्यवहार, नेतृत्व, चरित्र निर्माण, आध्यात्मिकता और कर्तव्य पर आधारित हैं।

ये श्लोक जीवन के हर संदर्भ में सही रास्ते पर जाने के लिए लोगों को प्रभावित करेंगे। इन श्लोकों का मर्म समझकर प्रबंधन सिद्धांत और आध्यात्मिकता की अवधारणा से रूबरू हुआ जा सकता है। यह एलबम व्यवहार, नेतृत्व क्षमता और व्यक्तित्व विकास की दृष्टि से युवा पीढ़ी के लिए बेहद उपयोगी है।

डॉ. मुरली कृष्णा ने बताया कि सभी श्लोकों का गायन उन्होंने ही किया है, जो शास्त्रीय संगीत पर आधारित है। एलबम एक घंटा 39 मिनट का है, जिसे हिंदी और तेलुगु भाषा में तैयार किया गया है। वह भले ही आंध्र प्रदेश के रहने वाले हैं, लेकिन हिंदी में श्लोक गायन में कोई त्रुटि नहीं हुई है। उन्होंने बताया कि वह दिनभर व्यस्त रहने के बाद रात में इस पर काम करते थे।

आमजनों तक नि:शुल्क पहुंचाने का है प्रयास

डॉ. कृष्णा ने बताया कि यह ऑडियो एलबम किसी भी व्यावसायिक उद्देश्य की पूर्ति के लिए नहीं है बल्कि श्रीमद् भगवदगीता के सार को आमजन खासकर युवाओं तक नि:शुल्क पहुंचाने का प्रयास है।

Posted By: JP Yadav