नई दिल्ली [मनीषा गर्ग]। School Reopen News: काेरोना महामारी के कारण करीब डेढ़ साल तक बंद रहे स्कूल अब सोमवार से खुलने जा रहे हैं। इस बात से विद्यार्थियों के चेहरे पर जहां उत्साह नजर आता है तो वहीं प्रशासन के माथे पर चिंता की लकीरें खींच चुकी हैं। प्रशासनिक अधिकारी उलझन में हैं कि अगर नियमित रूप से स्कूल खुलते हैं तो वहां चल रहे टीकाकरण केंद्रों को कहां स्थानांतरित किया जाएगा? हालांकि, अधिकारियों ने जगह की तलाश का अभियान तेज कर दिया और कुछ टीका साइटों को स्थानांतरित भी कर दिया गया है। इसके अलावा फिलहाल हर घर दस्तक अभियान भी काफी रंग ला रहा है। पर आगामी दिनों में टीकाकरण अभियान की रफ्तार को बनाए रखना प्रशासन के लिए सबसे बड़ी चुनौती है।

जगह के साथ मानव संसाधन की किल्लत

दूसरा जगह के साथ मानव संसाधन की किल्लत भी प्रशासन के समक्ष फिलहाल बड़ी परेशानी है। असल में बोर्ड की परीक्षा के कारण प्रशासन ने टीकाकरण व इंफोर्समेंट अभियान में अपनी ड्यूटी दे रहे सभी टीजीटी व पीजीटी अध्यापकों को ड्यूटी से मुक्त कर दिया है। हालांकि, उनके स्थान पर प्राथमिक अध्यापकों को ड्यूटी पर लगाया गया है, पर स्कूल खोलने के बाद प्रशासन को इन्हें भी ड्यूटी मुक्त करना होगा।

मेट्रो स्टेशन पर स्थानांतरित हुए टीका केंद्र

पश्चिमी जिला प्रशासन की माने तो फिलहाल जिले में 115 केंद्रों पर टीकाकरण अभियान चल रहा है। पर स्कूल खुलने के बाद वहां टीकाकरण केंद्र को चलाना अब चुनौती बन गया है, पर शिक्षा विभाग के निर्देशानुसार स्वास्थ्य विभाग स्कूलों के किसी भी एक कोने में टीका साइट को चला सकता है बशर्ते विद्यार्थी स्वास्थ्यकर्मी व लोगों के संपर्क में न आएं।

मेट्रो स्टेशन पर टीकाकरण केंद्र स्थानांतरित 

सुरक्षा कारणों को मद्देनजर रखते हुए चार टीका केंद्रों को सुभाष नगर, शादीपुर डिपो, मुंडका व नांगलोई मेट्रो स्टेशन पर स्थानांतरित कर दिया गया है और कुछ नजदीकी डिस्पेंसरी में चलाई जा रही है। जबकि अन्य साइटों को स्थानांतरित करने के लिए जगह की तलाश जारी है। फिलहाल स्कूलों में बोर्ड की परीक्षा चल रही है, ऐसे में परीक्षा वाले दिन स्कूलों में टीका साइट बंद रहती है और उस दिन हर घर दस्तक अभियान के तहत स्वास्थ्य कर्मचारी गली-मोहल्लों, मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारों जैसे सार्वजनिक स्थान पर शिविर आयोजित करते है।

सोमवार से खुलेंगे स्कूल

सोमवार से स्कूल पूर्ण रूप से खुलने जा रहे हैं, ऐसे में प्रशासन पूरी कोशिश कर रहा है कि जल्द से जल्द जगह की तलाश कर टीका साइटों को स्थानांतरित कर दिया जाए। सूत्रों की माने तो स्कूलों से निकलकर टीका केंद्रों को अब सरकारी कार्यालयों में खोला जाएगा। हालांकि सामुदायिक भवन में भी टीका केंद्र चलाने की बात सामने आई थी, पर शादियों के समय को ध्यान में रखते हुए यह योजना को खारिज कर दिया गया। अगर दक्षिण-पश्चिमी जिले की बात करें तो उन्होंने 14 टीका केंद्रों को स्कूलों से स्थानांतरित कर दिया गया है। हालांकि अभी हर घर दस्तक अभियान पर जोर दिया जा रहा है, क्योंकि वहां लोगों की अच्छी प्रतिक्रिया मिल रही है।

दक्षिण-पश्चिमी जिले में खुले नए टीका केंद्र

दक्षिणी निगम डिस्पेंसरी, मंगलापुरी

दमकल केंद्र, जनकपुरी सी-4 ब्लाक

दक्षिणी निगम डिस्पेंसरी, शंकर गार्डन, विकासपुरी

दक्षिणी निगम सामुदायिक भवन, हस्तसाल, उत्तम नगर

डीडीए सामुदायिक भवन, द्वारका सेक्टर-2

सामुदायिक भवन, पोचनपुर गांव

डीडीए काफी होम, डी-ब्लाक, बिंदापुर

दिल्ली जल बोर्ड बोस्टर पंप स्टेशन, मोहन गार्डन

हरदयाल पब्लिक लाइब्रेरी, पोसंगीपुर गांव, जनकपुरी

हरिजन चौपाल, छावला

एलोपैथिक डिस्पेंसरी, भरथल

राष्ट्रीय मलेरिया अनुसंधान संस्थान, द्वारका सेक्टर-8

पीडब्ल्यूडी कार्यालय, द्वारका सेक्टर-6

सरकारी डिस्पेंसरी, धर्मपुरा

Edited By: Prateek Kumar