नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। Shaheen Bagh protest : शाहीन बाग में रास्ता खुलवाने को लेकर सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त वार्ताकारों ने अपनी रिपोर्ट सोमवार को जमा कर दी। इस मामले में अब 26 जनवरी को सुनवाई होगी। इससे पहले सुप्रीम कोर्ट से नियुक्त वार्ताकार साधना राम चंद्रन और संजय  हेगड़े अंतिम दिन यानी रविवार को प्रदर्शन स्थल पर नहीं पहुंचे, जबकि लगातार 4 दिन तक वार्ताकारों ने शाहीन बाग पहुंचकर प्रदर्शनकारियों से रास्ता खुलवाने को लेकर बातचीत की। 

बातचीत रही है बेनतीजा

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट में शाहीन बाग में रास्ता खाली कराने को लेकर एक याचिका दाखिल की गई थी। इस पर सुनवाई के दौरान अदालत ने प्रदर्शनकारियों से बातचीत के लिए तीन वार्ताकार नियुक्त किए थे। इनमें से दो वार्ताकार संजय हेगड़े और साधना रामचंद्रन बीते चार दिनों से बातचीत के जरिये रास्ता खाली कराने के प्रयास में जुटे हुए हैं, लेकिन बातचीत बेनतीजा रही। रविवार को पांचवां यानी वार्ता का आखिरी दिन था। प्रदर्शनकारी सुबह से ही वार्ताकारों का इंतजार कर रहे थे। हालांकि, कोई नहीं पहुंचा। 

एक तरफ का रास्ता खाली करने का प्रस्ताव

प्रदर्शनकारियों को वार्ताकारों ने एक तरफ का रास्ता खाली करने का प्रस्ताव दिया था, जिसे उन्होंने नहीं माना। इन लोगों ने कोर्ट व पुलिस से लिखित में सुरक्षा का आश्वासन मांगा था, जिसके बाद ही एक तरफ के रास्ते को खाली करने की सहमति दी थी।

शाहीन बाग में की गई जाफराबाद जाने की अपील

शाहीन बाग में रविवार सुबह से ही महिलाओं को जाफराबाद प्रदर्शन में शामिल होने के लिए मंच से अपील की जा रही थी। कहा जा रहा था कि जाफराबाद में ज्यादा से ज्यादा लोग पहुंचकर वहां के प्रदर्शन को सफल बनाएं। इसके अलावा सोशल मीडिया पर भी लोगों से जाफराबाद पहुंचने के लिए अपील की गई।

बता दें कि रविवार को CAA-NRC के विरोध में प्रदर्शन के दौरान हिंसा हुई, जिसमें कई वाहनों में भी तोड़फोड़ की गई। इसी के साथ मालवीय नगर और करावल नगर में भी हिंसा हुई है। 

Posted By: JP Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस