नई दिल्ली [जेएनएन]। स्वच्छ भारत की ओर एक कदम होगा सेनेटरी नैपकिन को टैक्स फ्री करना। इसलिए महिलाओं को सुविधा देने के लिए नैपकिन को जीएसटी टैक्स से फ्री रखना चाहिए। बुधवार को इसी मांग के साथ दिल्ली महिला आयोग (डीसीडब्ल्यू) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक पत्र लिखा।

आयोग की अध्यक्ष स्वाति जयहिंद ने कहा कि जीएसटी बिल को लागू करने के प्रस्ताव में 12 फीसद टैक्स नैपकिन पर लगाया जा रहा है। सिर्फ दिल्ली की बात की जाए तो करीब 80 प्रतिशत महिलाएं इनका इस्तेमाल करती हैं। टैक्स लगने के बाद इनकी कीमतें बढ़ जाएंगी। जिसके बाद कई महिलाएं इनका इस्तेमाल कम कर देगी।

इसका इस्तेमाल जहां महिलाओं के स्वास्थ्य के लिहाज से अच्छा है। वहीं, वातावरण के लिए भी यह अच्छा है। इस्तेमाल के बाद इसे पूरी तरह से नष्ट किया जा सकता है। स्वाति जयहिंद ने कहा कि केंद्र सरकार स्वच्छता अभियान की ओर जोर दे रही है। ऐसे में नैपकिन को टैक्स फ्री करना भी सरकार के इस अभियान में महत्वपूर्ण योगदान होगा। 

यह भी पढ़ें: जज ने पूछा, तुम्हारे पिता को क्या सजा दें, बच्चे ने दिया मासूमियत भरा जवाब

यह भी पढ़ें: सिसोदिया के इशारे पर विधानसभा में कपिल की धुनाई, 'छाती पर मारी गई लात'

Posted By: Amit Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस