नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में रॉबर्ट वाड्रा के करीबी मनोज अरोड़ा को पटियाला हाउस की एक विशेष अदालत ने गिरफ्तारी से अंतरिम राहत दी है।

अदालत ने अरोड़ा को आदेश दिया कि वह शनिवार को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की जांच टीम के सामने पेश हों। पटियाला हाउस कोर्ट में मनोज अरोड़ा ने अग्रिम जमानत के लिए अर्जी दायर की थी। इस पर शुक्रवार को अदालत ने अरोड़ा को गिरफ्तारी से अंतरिम राहत दी है। प्रवर्तन निदेशालय ने अदालत को बताया था कि आयकर विभाग की एक अन्य जांच में मनोज अरोड़ा का नाम सामने आने के बाद उनके खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग  का मामला दर्ज किया गया था।

ईडी ने अदालत को बताया था कि लंदन में रॉबर्ट वाड्रा द्वारा खरीदी गई संपत्ति में मनोज अरोड़ा की अहम भूमिका है। मनोज ने ही संपत्ति को खरीदने में वाड्रा की मदद की है। वहीं, दूसरी तरफ अग्रिम जमानत के लिए दी याचिका में मनोज अरोड़ा ने आरोप लगाया था कि विदेश में संपत्तियों की खरीद से जुड़े मनी लॉन्डि्रंग मामले में ईडी उन पर उनके नियोक्ता रॉबर्ट वाड्रा को गलत तरीके से फंसाने का दबाव बना रही है। वाड्रा की कंपनी स्काई लाइट हॉस्पिटैलिटी में काम करने वाले मनोज अरोड़ा ने यह भी आरोप लगाया था कि पूछताछ के लिए उनकी पत्नी जांच एजेंसी के सामने पेश हुई थी। इस दौरान ईडी के अधिकारियों ने उनकी पत्नी को भी वाड्रा को फंसाने के लिए धमकाया था।

Posted By: Manish Negi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप