नई दिल्ली [गौरव बाजपेई]। देश की गरिमा पर चोट पहुंचाने वाली घटना जिसमें किसान प्रदर्शनकारियों के भेष में उपद्रवियों ने लाल किले की प्राचीर पर धार्मिक झंडा फहराया। पूरे दिन आम लोगों और पुलिस पर हिंसा की। घटना बीते साल 2021 को हुई थी। मामले में 44 मुकदमे दर्ज किए गए जिसमें 150 से अधिक लोग गिरफ्तार किए गए थे। हालांकि, वर्तमान में मामले के मुख्य आरोपित दीप सिद्धू, लक्खा सिधाना समेत लगभग सभी आरोपित जमानत पर बाहर हैं। मामले में दिल्ली पुलिस ने 3224 पेज की चार्जशीट दाखिल की थी। जिस पर तीस हजारी कोर्ट ने संज्ञान लिया है। मामलें सुनवाई चल रही है।

पुलिस का दावा सुनियोजित तरीके से हुई हिंसा

किसान प्रदर्शन के दौरान 26 जनवरी को लाल किला परिसर में हुई हिंसा मामले में दिल्ली पुलिस ने चार्जशीट में कई हैरान करने वाले दावे किए हैं। पुलिस का दावा है कि प्रदर्शनकारी ना केवल लाल किले पर कब्जा करना चाहते थे बल्कि उसे एक नए प्रदर्शनस्थल में बदलना चाहते थे। इतना ही नहीं, उन्होंने सरकार को बदनाम करने के उद्देश्य से 26 जनवरी की तारीख चुनी। पुलिस ने 3,224 पेज की अपनी चार्जशीट में लाल किले पर हुई हिंसा को पूर्व नियोजित बताया है।

ट्रैक्टर रैली में भड़की थी हिंसा

गणतंत्र दिवस के दिन किसान प्रदर्शनकारियों द्वारा निकाली गई ट्रैक्टर परेड के दौरान दिल्ली में कई जगह हिंसा की आग भड़की थी। हिंसा में दिल्ली पुलिस समेत सुरक्षा एजेंसियों के करीब पांच सौ से ज्यादा कर्मी जख्मी हुए। इस बाबत दिल्ली पुलिस ने विभिन्न स्तर पर जांच कर 44 एफआईआर दर्ज की था और 150 से अधिक गिरफ्तारियां की।

पुलिस नहीं दे पाई दलील

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने वांछित मनिंदर सिंह को भी गिरफ्तार किया है, जिसे 26 जनवरी को हिंसा भड़कने पर दोनों हाथों से तलवारें लहराते देखा गया था। 26 जनवरी के दिन मनिंदर सिंह द्वारा लाल किले पर लहराई गई 4.3 फीट आकार की दो तलवारों को भी दिल्ली के स्वरूप नगर स्थित उसके घर से बरामद किया गया था। हालांकि कोर्ट ने म¨नदर को भी जमानत दे दी क्योंकि पुलिस यह नहीं बता पाई कि सिखों द्वारा हाथ में तलवार लेना अपराध है या मनिंदर का लाल किले में मौजूद होना।

टाइम लाइन

  • 26 जनवरी 2021- किसान प्रदर्शनकारियों की आड में उपद्रवियों ने लाल किले और दिल्ली की सड़कों पर आम लोगों और पुलिस के साथ की हिंसा
  • मामले में पुलिस ने 44 मुकदमे और 150 लोगों को गिरफ्तार किया
  • 17 अप्रैल- मामले में मुख्य अभियुक्त दीप सिद्धू को जमानत, पुलिस ने जेल से निकलते ही किया गिरफ्तार
  • 26 अप्रैल- दीप सिद्धू को कोर्ट ने दूसरे मामले में भी जमानत दी
  • 17 मई- तीस हजारी कोर्ट में पुलिस ने 3224 पेज की चार्जशीट दाखिल की
  • 19 जून- तीस हजारी कोर्ट में पुलिस ने पूरक आरोपपत्र दाखिल किया
  • 12 अगस्त- कोर्ट ने मुख्य अभियुक्तों में से एक लक्खा सिंह सिधाना की अंतरिम जमानत बढ़ाई, बाद में उसे नियमित जमानत दी गई

Edited By: Prateek Kumar