नई दिल्ली, जेएनएन। PM Modi's niece robbed in Delhi: राजधानी दिल्ली में एक ही घटना ने दिल्ली पुलिस की लापरवाही, यातायात पुलिस की गैरमौजूदगी और बदमाशों के बुलंद हौसले की तस्वीर साफ कर दी। प्रधानमंत्री की भतीजी के साथ झपटमारी करने वाले बदमाश राजधानी की सड़कों पर 35 किलोमीटर का सफर बिना हेल्मेट स्कूटी से करते रहे। उन्हें कहीं भी यातायात पुलिस या स्थानीय पुलिस ने नहीं रोका। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि देश की राजधानी में पुलिसिंग की व्यवस्था किस हद तक लचर हो चुकी है।

शनिवार की सुबह प्रधानमंत्री के भाई प्रह्लाद मोदी की बेटी दमयंती बेन मोदी का झपटमारों ने करीब एक किलोमीटर तक पीछा किया। इस बीच दोनों सिविल लाइंस के संवेदनशील इलाके में भी बिना हेलमेट पहुंचे। बदमाश इससे पहले सदर बाजार से आए थे, जो सिविल लाइंस से करीब दस किलोमीटर की दूरी पर है। वारदात के बाद सिविल लाइंस से करीब 25 किमी दूर सुल्तानपुरी पहुंचे। इस बीच दोनों बदमाशों को कहीं भी यातायात पुलिस या स्थानीय पुलिस ने नहीं रोका। इससे जाहिर है कि सुबह के समय राजधानी में दिल्ली की सड़कों पर न तो यातायात पुलिस मौजूद रहती है, न ही स्थानीय पुलिस। ऐसे में बदमाशों का काम आसान हो जाता है। घटनास्थल पर यदि सीसीटीवी कैमरे न होते तो शायद पुलिस यह भी नहीं जान पाती कि बदमाश कहां गायब हो गए।

 20 ठिकानों पर दी पुलिस ने दबिश तब हाथ आया आकाश

प्रधानमंत्री की भतीजी से झपटमारी करने वाले आरोपितों को पता था कि सुबह कहां-कहां पुलिस रहती है। यही वजह है कि बिना हेलमेट बेखौफ न सिर्फ उन्होंने दमयंती बेन मोदी का पीछा किया, बल्कि झपटमारी की वारदात को अंजाम देकर फरार भी हो गए।

पूछताछ के दौरान गौरव उर्फ नोनू ने पुलिस को बताया कि दोनों का बचपन सदर बाजार के नबी करीम में गुजरा है। दोनों यहां की गलियों से बखूबी वाकिफ होने के साथ पुलिस की मौजूदगी और गैरमौजूदगी के बारे में भी जानते थे। उन्हें पता था कि किस समय पुलिस कहां होती है। ऐसे में उन्होंने झपटमारी के लिए सुबह का समय चुना, जब यातायात व स्थानीय पुलिस की सक्रियता काफी कम होती है।

गौरव को सोनीपत से गिरफ्तार करने के बाद दूसरे आरोपित आकाश उर्फ बादल की गिरफ्तारी के लिए उत्तरी जिला की पुलिस, स्पेशल सेल और क्राइम ब्रांच की टीम रविवार को दिनभर दौड़ती रही। इस बीच टीम ने सुल्तानपुरी में करीब 20 स्थानों पर आकाश की तलाश में दबिश तब वह पुलिस के हाथ आया। पुलिस के मुताबिक वह गिरफ्तारी से बचने के लिए लगातार ठिकाने बदल रहा था। यही नहीं सुल्तानपुरी और पश्चिम विहार में झपटमारी के उस पर पहले से ही मामले दर्ज हैं। इसके चलते वह अपने घर पर नहीं रहता बल्कि सुल्तानपुरी में किराये पर रहता है।

पुलिस खंगाल रही आपराधिक रिकॉर्ड

डीसीपी मोनिका भारद्वाज ने बताया कि पकड़े गए आरोपित गौरव पर मारपीट का मामला पहले से दर्ज है। इसके अलावा उसका आपराधिक रिकॉर्ड खंगाला जा रहा है। वह कई अन्य मामलों में भी शामिल हो सकता है। फिलहाल पुलिस आसपास के थानों से उसके बारे में पूछताछ कर रही है।

दिल्ली स्थित AIIMS में लगी आग के लिए जवाबदेह अफसर को 2 साल का सेवा विस्तार

Pollution in Delhi-NCR: आज से शुरू होगा प्रदूषण में इजाफा, दिवाली तक बढ़ सकती है मुश्किल

यूपी के बच्चे का दिल्ली के अस्पताल में शुरू होगा इलाज, CM केजरीवाल ने दिखाई दरियालदिली

दिल्ली-NCR की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां पर करें क्लिक

Posted By: JP Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस