नई दिल्ली, जागरण डिजिटल डेस्क। Umer Ahmed Ilyasi : राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ प्रमुख मोहन भागवत (RSS Chief Mohan Bhagwat) को राष्ट्रपिता और राष्ट्र ऋषि बताकर ऑल इंडिया इमाम ऑर्गेनाइजेशन के प्रमुख डॉ. उमर अहमद इलियासी अचानक चर्चा में आ गए हैं। आइये जानते हैं डॉ. उमर अहमद इलियासी के बारे में कई और बातें जो सोशल मीडिया पर भी खूब चर्चा में हैं। 

मुस्लिम धार्मिक गुरु हैं अहमद इलियासी

ऑल इंडिया इमाम ऑर्गनाइजेशन के चीफ इमाम उमेर अहमद इलियासी देश में एक प्रभावी मुस्लिम धार्मिक गुरु हैं। वह कस्तूरबा गांधी मार्ग स्थित मस्जिद के मुख्य इमाम भी हैं। मुस्लिम समुदाय में उनका खास रुतबा है। यही वजह है कि RSS प्रमुख मोहन भागवत ने उनसे बृहस्पतिवार को मुलाकात की। वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी कई बार मुलाकात कर चुके हैं। 

इमामों के इमाम हैं अहमद इलियासी

गौरतलब है कि इमाम उमेर अहमद इलियासी जिस ऑल इंडिया इमाम ऑर्गेनाइजेशन के मुखिया हैं, उस संगठन से देश भर के हजारों मस्जिदों के लाखों इमाम जुड़े हुए हैं। इन्हें अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रमुख प्रगतिशील धार्मिक गुरु के तौर पर जाना जाता है।

अन्य धर्म के लोगों से संवाद करते हैं मुस्लिम धर्म गुरु

इमाम उमेर अहमद इलियासी लगातार धार्मिक सद्भाव बढ़ाने के लिए प्रयासरत रहते हैं। इसके लिए वह, जैन, बौद्ध, इसाई व हिंदू धर्म गुरुओं और प्रबुद्ध लाेगों से संवाद करते रहते हैं।

राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार मिला चुका है इलियासी को

इमाम उमेर अहमद इलियासी ने संघ प्रमुख मोहन भागवत से पहले भी कई मौकों पर मुलाकात की और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ भी मंच साझा किया। उन्हें राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कई प्रतिष्ठित पुरस्कारों से नवाजा गया है। 

CAA-NRC पर भी खुलकर रखी थी अपनी राय

वर्ष 2019-2020 में दिल्ली-एनसीआर में नागरिकता संशोधन कानून (CAA) और नागरिकता रजिस्टर को लेकर भी इमाम उमेर अहमद इलियासी का अहम बयान आया था। विरोध प्रदर्शन कर रहे लोगों से उन्होंने कहा था कि इस मुद्दे पर विरोध कर रहे लोग पहले CAA और NRC को समझ लें। यह बयान उनकी ओर से विधिवत जारी भी किया गया था।

पहली बार मदरसा पहुंचे RSS के सरसंघचालक मोहन भागवत ने बच्चों से पूछा- बड़े होकर क्या बनोगे

कौन हैं डॉ. एम श्रीनिवास जो हो सकते हैं दिल्ली एम्स के नए निदेशक

Edited By: Jp Yadav