नई दिल्ली, जेएनएन। देश की पहली निजी यानी कॉरपोरेट ट्रेन तेजस के रफ्तार भरने की तारीख तय हो गई है। इसका परिचालन लखनऊ-दिल्ली रूट पर चार अक्टूबर से शुरू हो जाएगा। इस ट्रेन को आइआरसीटीसी (इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड ट्यूरिज्म कॉरपोरेशन) चलाएगा। ट्रेन का किराया इस रूट की उड़ानों से 50 फीसद कम होगा। विभागीय अधिकारियों के अनुसार, यह मंगलवार को छोड़कर सप्ताह में छह दिन चलेगी। गाजियाबाद और कानपुर में इसका ठहराव होगा। वहीं मुंबई सेंट्रल-अहमदाबाद तेजस एक्सप्रेस का भी चलाया जाना लगभग तय है।

लखनऊ जंक्शन पर भी तैयारी शुरू
तेजस क्लास ट्रेन का रैक लखनऊ में 30 जून को आया था। इसके बाद रैक को पहले गोमतीनगर और उसके बाद ऐशबाग कोचिंग डिपो में खड़ाकर दिया गया। तेजस क्लास ट्रेन को लखनऊ जंक्शन के प्लेटफार्म छह से चलाया जाएगा। वाई-फाई और मूविंग टॉकीज के जरिये रेलवे प्री लोड कार्यक्रम की सुविधा यात्रियों को देगा।

खास होगी ट्रेन की सुविधा

यह ट्रेन कई मायनों में खास होगी। आरामदायक और तेज गति का सफर कराने के साथ ही इसमें लग्जरी होटल जैसा आराम मिलेगा। यात्रियों का भरपूर मनोरंजन होगा। हर बोगी में मुफ्त वाई-फाई के साथ मू¨वग टॉकीज दिल बहलाएगी, जिसमें रेलवे के प्री प्रोग्राम फीचर होंगे। यात्री एंड्रायड फोन पर रेलवे के ये कार्यक्रम वाई-फाई से कनेक्ट होकर देख सकेंगे। तेजस क्लास में फ्लाइट जैसी आधुनिक सुविधाएं होंगी। कुल 12 बोगियों वाली इस ट्रेन में एक्जक्यूटिव और चेयरकार दो तरह के क्लास होंगे। दो बोगियां एक्जक्यूटिव और आठ बोगियां चेयरकार की होंगी। एक्जक्यूटिव क्लास की एक बोगी में 56 और चेयरकार में 76 यात्री सफर कर सकेंगे।

यहां पर बता दें कि उत्तर प्रदेश सरकार का सहयोग भी तेजस क्लास ट्रेन की ब्रांडिंग में मिलेगा। बोर्ड के वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक इस ट्रेन का किराया तय हो गया है। नौ सितंबर को दिल्ली में होने वाली बैठक में किराये को अंतिम स्वीकृति देने के साथ ही टिकटिंग की व्यवस्था, खान-पान, टीटीई सहित सभी पहलुओं को आइआरसीटीसी के अधिकारी अंतिम रूप दे देंगे।

 दिल्ली-NCR की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां पर करें क्लिक 

ट्रेन की खूबियां

  • हर सीट के ऊपर होगा अटेंडेंट को बुलाने के लिए पीला बटन
  •  पढ़ाई के लिए रीडिंग बटन की सुविधा
  •  बटन दबाते ही खुलेंगे और बंद होंगे खिड़की के पर्दे
  •  बोगी के दोनों छोर पर होंगे सेंसर युक्त स्लाइडिंग दरवाजे
  •  करीब जाते ही खुद खुल जाएंगी सेंसर वाली डस्टबिन
  •  सिगरेट पीने पर स्वयं ही रुक जाएगी ट्रेन
  •  संदिग्ध लोगों पर नजर रखेंगे हर बोगी में लगे छह सीसी कैमरे
  •  चेन की जगह इमरजेंसी में ट्रेन रोकने के लिए लगे हैं हैंडल
  •  विजुअल और एनाउंस से यात्रियों को भी मिलेगी तुरंत सूचना
  •  हर बोगी में लगे हैं एंटी ब्रेकिंग सिस्टम, जो पहिए को जाम नहीं होने देंगे।
  •  ओएचई से बिजली लेकर उसे बोगियों के लिए कनवर्ट करने की तकनीक।
  •  शौचालय में कितना पानी है यह बताएगा इंडीकेटर।
  •  गार्ड के पास होगा गेट खोलने और बंद करने वाला बटन।
  •  हर बोगी में सूप व कॉफी बनाने के लिए मिनी किचन।
  •  बोगी में होंगे दो सेंट्रल टेबल, पब्लिक इंफॉर्मेशन डिस्प्ले भी।

 

Posted By: JP Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस