नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। फांसी की सजा के दौरान फंदे पर दोषी के लटकने के चंद सेकेंड बाद ही दोषी दम तोड़ देता है, लेकिन दिल्ली में एक हैरान करने वाला मामला सामने आ चुका है, जिसमें एक दोषी फांसी के फंदे पर लटकने के बाद 2 घंटे तक जिंदा रहा था। यह मामला रंगा-बिला के रंगा से जुड़ा है। पढ़िए दिल्ली की तिहाड़ जेल में वर्ष, 1982 में हुआ यह चौंकाने वाला मामला।

फांसी पर लटकने के दो घंटे बाद भी जिंदा था रंगा

तिहाड़ जेल में कई वर्ष तक कार्यरत रहे सुनील गुप्ता ने ब्लैक वारंट नामक अपनी किताब में लिखा है कि तिहाड़ में वर्ष 1982 में रंगा और बिल्ला को फांसी के तख्ते पर लटकाया गया था। फंदे पर लटकाने के दो घंटे बाद जब चिकित्सक फांसी घर में यह जांच करने गए कि दोनों की मौत हुई या नहीं तो पाया गया कि रंगा की नाड़ी (पल्स) चल रही थी। बाद में रंगा के फंदे को नीचे से खींचा गया और उसकी मौत हुई।

हरि नगर के दीनदयाल उपाध्याय अस्पताल में फोरेंसिक विभाग के अध्यक्ष डॉ.बीएन मिश्र बताते हैं कि फांसी के दौरान गर्दन की हड्डियों में अचानक झटका लगता है। झटके से गर्दन की सात में से एक हड्डी, जिसे सेकेंड वर्टिब्रा कहा जाता है, उसमें से ऑडोंट्वाइड प्रोसेस नामक हड्डी निकलकर स्पाइनल कॉर्ड में धंस जाती है। इसके धंसते ही शरीर न्यूरोलॉजिकल शॉक का शिकार हो जाता है और तुरंत शरीर की नियंत्रण क्षमता समाप्त हो जाती है। इससे उसकी तुरंत मौत हो जाती है। यह पूरी प्रक्रिया चंद सेकेंड में ही हो जाती है।

डॉ. मिश्र बताते हैं कि फांसी की सजा से हुई मौत को फोरेंसिक भाषा में ज्यूडिशियल हैंगिंग कहा जाता है, वहीं खुदकशी के मामले में फांसी लगाने से जो मौत होती है उसमें अधिकांश मामलों में गर्दन व सांस की नली दबने या दोनों के एक साथ दबने से मस्तिष्क में रक्त का प्रवाह बंद हो जाता है और दो से तीन मिनट में मौत हो जाती है। यदि हत्या के इरादे से किसी को फंदे से लटकाया जाता है तो होमिसाइडल हैंगिंग कहा जाता है। वहीं कुछ मामलों में दुर्घटनावश भी रस्सी या तार में गर्दन के उलझने से मौत हो जाती है। सभी मामलों के अपने-अपने लक्षण हैं।

बता दें कि इन दिनों निर्भया मामले में चारों दोषियों अक्षय, पवन, मुकेश और विनय की फांसी को लेकर चर्चा गरम है। दरअसल, निचली अदालत के बाद दिल्ली हाई कोर्ट (Delhi high Court) और सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) भी फांसी की सजा पर मुहर लगा चुका है। अब कुछ कानूनी अड़चन के साथ ही राष्ट्रपति के पास गई दया याचिका पर निपटारा होना ही बाकी है। इस सब प्रक्रिया के होने के बाद चारों दोषियों को फांसी के लिए डेथ वारंट जारी कर दिया जाएगा।

जेल संख्या तीन के फांसी घर का किया गया निरीक्षण

शुक्रवार को जेल प्रशासन के कई अधिकारी तिहाड़ जेल संख्या दो व तीन पहुंचे। सूत्रों की मानें तो अधिकारियों ने जेल संख्या दो में बंद वसंत विहार सामूहिक दुष्कर्म मामले के दोषियों का हाल जाना। जेल संख्या दो के कर्मचारियों से उनके बारे में जानकारियां लीं। सूत्रों का कहना है कि जेल संख्या दो में बंद पवन व अक्षय की बात फोन पर घरवालों से कराई गई। दोनों ने जेल प्रशासन से बातचीत कराने का अनुरोध किया था।

जेल संख्या दो के बाद अधिकारियों ने जेल संख्या तीन का दौरा किया। यहां फांसी घर जाकर वहां चल रहे कार्यों के बारे में जेलकर्मियों से पूरी जानकारी ली। सूत्रों का कहना है कि इस दौरान बक्सर जेल से मंगाया गया फांसी में प्रयुक्त होने वाला फंदा भी इन्होंने देखा। फंदों को काले रंग के एक बक्से में बंद करके रखा गया है। इस बक्से की चाभी जेल उपाधीक्षक कार्यालय में रखी गई है। सूत्रों की मानें तो जेल संख्या दो में बंद अक्षय, विनय, पवन व जेल संख्या चार में बंद विनय के माथे पर अब चिंता की लकीरें उभरने लगी हैं। जेल प्रशासन इन चारों की स्थिति पर पूरी निगाह रखे हुए हैं। 

दिल्ली-एनसीआर की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां पर करें क्लिक

Posted By: JP Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस