नई दिल्ली/सोनीपत [संजय निधि]। संयुक्त किसान मोर्चा ने बृहस्पतिवार दोपहर अहम बैठक कर दिल्ली-एनसीआर के चारों बार्डर (सिंघु, शाहजहांपुर, गाजीपुर और टीकरी) से किसान आंदोलन खत्म करने का ऐलान कर दिया है। इसके तहत आगामी शनिवार से किसान प्रदर्शनकारियों की विधिवत वापसी शुरू हो जाएगी। वहीं, किसान आंदोलन खत्म होने पर भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने अजब बयान दिया है। उन्होंने कहा है कि सरकार की चिट्ठी का पहले अर्थ समझेंगे, जबकि आंदोलन खत्म करने पर किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि आंदोलन स्थगित हुआ है, खत्म नहीं। बता दें कि किसान नेता राकेश टिकैत दिल्ली-उत्तर प्रदेश के गाजीपुर पर चल रहे किसानों के धरना प्रदर्शन की अगुवाई कर रहे हैं। इसके साथ ही वह संयुक्त किसान मोर्चा के अहम नेताओं में शुमार हैं।

इस बीच संयुक्त किसान मोर्चा के बड़े नेताओं में से एक गुरनाम सिंह चढ़ूनी ने कहा कि 15 जनवरी को दिल्ली में संयुक्त किसान मोर्चा की समीक्षा बैठक होगी। गुरना सिंह चढूनी ने यह भी कहा कि संयुक्त किसान मोर्चा की यह समीक्षा बैठक हर महीने होगी, यदि केंद्र सरकार अपने वादे से मुकरी तो फिर आंदोलन शुरू करेंगे।

उधर, खबर आ रही है कि दिल्ली बार्डर पर एक साल 14 दिन से चल रहा किसान आंदोलन बृहस्पतिवार शाम को खत्म हो जाएगा। इसके लिए किसान संगठनों की सहमति बन गई है। उन्हें मांगे मंजूर होने का आधिकारिक लेटर भी मिल गया है। इस बीच दिल्ली-हरियाणा के सिंघु बार्डर पर किसानों ने टेंट उखाड़ने शुरू कर दिए हैं। इसके अलावा वापसी की तैयारी भी शुरू कर दी गई है। इसकी तस्वीरे भी वायरल हो रही हैं।

यहां पर बता दें कि 26 नवंबर से दिल्ली-एनसीआर के बार्डर पर किसानों का धरना प्रदर्शन जारी है। पंजाब, हरियाणा और यूपी के किसान तीनों केंद्रीय कृषि कानूनों के विरोध में प्रदर्शन कर रहे हैं, जिसे पिछले दिनों संसद के दोनों सदनों में कार्यवाही के जरिये निरस्त कर दिया गया। 

Edited By: Jp Yadav