नई दिल्ली, जेएनएन। नए साल में दिल्ली वालों को एक नए अनुभव का अवसर मिलने वाला है। राजधानी में सुबह की सैर करनेवालों में काफी लोकप्रिय लोदी गार्डन हाईटेक होने जा रहा है। न्यू दिल्ली म्युनिसिपल कॉरपोरेशन ने लोदी गार्डन में पेड़ों पर QR कोड लगाने का फैसला किया है। एक जनवरी से लोदी गार्डन में करीब 100 पेड़ों पर QR कोड लगाए जाने की तैयारी है।

स्‍कैन करने पर मिलेगी ये जानकारियां
लोदी गार्डन में आने वाले लोग पेड़ों पर लगे QR कोड को अपने मोबाइल फोन की मदद से स्कैन कर पेड़ के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त कर सकेंगे। इसमें पेड़ से संबंधित जानकारी जैसे पेड़ किस प्रजाति का है? कहाँ पाया जाता है? कितनी आयु का है आदि की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। स्कैन करने पर उस पेड़ के अलग ऋतुओं के चार फोटो के साथ पेड़ पर किस ऋतु में फल या फूल आते है की जानकारी आ जाएगी।

आम लोगों में बढ़ेगी जागरुकता
QR कोड की मदद से आम लोगो के बीच पेड़ों के प्रति जानकारी बढ़ेगी। दिल्ली में पर्यावरण के खराब होते स्तर को देखते हुए इसे प्रभावशाली कदम के रूप में देखा जा रहा है। शुरुआत में करीब 100 पेड़ों पर QR कोड लगाए जायेंगे। बाद में और पेड़ों पर QR कोड लगाया जाएगा।

सात हजार प्रजाति के पेड़ हैं यहां
लोदी गार्डन करीब 90,000 एकड़ में फैला है। इसमें करीब सात हजार प्रजाति के पेड़ लगे हुए है। लोधी गार्डन में दिल्ली सुल्तनत के लोधी वंश के सुल्तान सिकंदर लोधी का मकबरा है। इसके आलावा इसमें में 15वी शताब्दी में निर्मित कई इमारत भी मौजूद हैं। लोदी गार्डन भारतीय पुरातत्व विभाग द्वारा संरक्षित स्थान है।

Posted By: Prateek Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस