नई दिल्ली, [संजीव गुप्ता]। लोक निर्माण विभाग (पीडब्ल्यूडी) ने जलभराव की समस्या को लेकर हेल्पलाइन नंबर 011-23490323 और 1800-11-0093 जारी किए हैं। विभाग ने बुधवार को इस आशय की एक सार्वजनिक सूचना जारी कर लोगों से जलभराव की स्थिति में हेल्पलाइन नंबरों पर काल करने को भी कहा है। दिल्ली सरकार ने इस मानसून के दौरान राजधानी की सड़कों पर जलभराव की शिकायतों से निपटने के लिए सभी विभागों के लिए एक एकीकृत नियंत्रण कक्ष (टोल-फ्री नंबर 1800-11-8595) भी स्थापित किया है। ये नियंत्रण कक्ष 24 घंटे काम करेंगे।

दिल्ली वासी जलभराव से संबंधित शिकायतें पीडब्ल्यूडी को मानसून दिल्ली 2021@gmail.com पर ईमेल के जरिये अथवा 8130188222 पर व्हाट्सएप करके भी भेज सकते हैं।

पीडब्ल्यूडी ने मानसून के दौरान वास्तविक समय की निगरानी करने के लिए संवेदनशील बिंदुओं पर सीसीटीवी कैमरे भी लगाए हैं। अधिकारियों के मुताबिक विभाग ने आइटीओ के पास मुख्यालय की 12वीं मंजिल पर एक हाइटेक कंट्रोल रूम बनाया है। सीसीटीवी कैमरों से लाइव फीड कंट्रोल रूम में स्थापित स्क्रीन पर प्रदर्शित की जाएगी, जहां पीडब्ल्यूडी कर्मचारी संवेदनशील बिंदुओं पर जमा हो रहे पानी के स्तर को देख सकेंगे।

अधिकारियों ने कहा कि स्थिति के आधार पर अवरुद्ध यातायात खोलने, अतिरिक्त फील्ड स्टाफ की तैनाती, जलभराव वाले क्षेत्रों से पानी निकालने और अतिरिक्त पंपसेट लगाने जैसे आवश्यक निर्देश जारी किए जाएंगे।

इन इलाकों में हुआ जलभराव

बता दें कि बुधवार को हुई बारिश से दिल्ली में कई जगहों पर जलभराव देखने को मिला। नगर निगम के मुताबिक, नजफगढ़ जोन में पोकेट-3 द्वारका, सेक्टर-8 द्वारका, महिपालपुर गांव, डीडीए फ्लैट वसंत कुंज, राम गोपाल मार्केट कैलाश पुरी एक्सटेंशन और वाल्मिकी मोहल्ला महिपालपुर में जलभराव हुआ। इसके साथ ही सेंट्रल जोन में डिफेंस कालोनी और डबल स्टोरी लाजपत नगर में पानी भरा। वहीं, साउथ जोन और वेस्ट जोन में जलभराव नहीं हुआ है। निगम की माने तो मालवीय नगर, सर्वोदय एंक्लेव और वसंत विहार व सेक्टर तीन द्वारका में पेड़ टूटे। साथ ही सेंट्रल जोन में डिफेंस कालोनी और लाजपत नगर में पेड़ टूटने से लोगों को परेशानी हुईं। इसके अलावा भी कई स्थानों पर जलभराव हुआ, जिसे निगम के आंकड़ों में शामिल नहीं किया गया है।

 

Edited By: Mangal Yadav