मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

नई दिल्‍ली, जेएनएन। सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर गुरु रविदास मंदिर को तोड़े जाने का विरोध कर रहे लोग लोग बुधवार शाम को बेकाबू हो गए। पुलिस से झड़प के बाद लोग पत्थरबाजी करने लगे। प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज किया। 

लाठीचार्ज में अभी तक किसी के घायल होने की कोई सूचना नहीं है। फिलहाल मौके पर अभी तक तनाव की स्थिति बनी हुई है। 

गुरु रविदास मंदिर आंदोलन की वजह से बुधवार को पूरी दक्षिणी दिल्ली बंधक बनकर रह गई। दक्षिणी दिल्ली की सड़कों पर 15 -20 हजार की बेकाबू भीड़ निकली तो सड़कों पर ब्रेक लग गया। सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर गुरु रविदास मंदिर को तोड़े जाने का विरोध करने वाले हजारों लोग रामलीला मैदान से होते हुए आश्रम चौक पहुंचे तो इस मार्ग पर यातायात ठप हो गया। हाथों में लाठी-डंडे, सरिया, चिमटा लिए प्रदर्शनकारी नारा लगाते हुए जिधर से भी गुजरे उधर का यातायात पूरी तरह से ठप हो गया।

रामलीला मैदान से निकलकर शाम करीब 5:00 बजे प्रदर्शनकारी मथुरा रोड होते हुए आश्रम चौक पहुंचे। इससे चारों तरफ से आने वाला यातायात थम गया और लोग जाम में फंसकर परेशान होने लगे। प्रदर्शनकारियों की कतार करीब 2 किलोमीटर लंबी थी। इसी वजह से मथुरा रोड जाम नहीं पाया था।  प्रदर्शनकारी मथुरा रोड होते हुए मोदी मिल फ्लाईओवरपहुंचे। मोदी मिल फ्लाईओवर से उतर कर प्रदर्शनकारी कालकाजी मंदिर होते हुए पुरी मेट्रो स्टेशन के नीचे पहुंचे। यहां मां आनंदमई मार्ग से होते हुए वह क्राउन प्लाजा की तरफ बढ़े। क्राउन प्लाजा होटल से ओखला स्टेट मार्ग होते हुए प्रदर्शनकारी एक्सटेंशन मैं गुरु रविदास मार्ग पर पहुंचे।

इससे पहले हजारों लोग रामलीला मैदान से होते हुए आश्रम चौक पहुंचे। हाथों में लाठी-डंडे लिए प्रदर्शनकारी नारा लगाते हुए चौक पर बैठ गए। गुरु रविदास मार्ग के मंदिर वाले भाग को बेरिकेड लगाकर दोनों ओर से बंद कर दिया गया है। प्रदर्शन की वजह से सड़क पर जाम लग गया है। 

जहांपनाह जंगल में संत रविदास का मंदिर तोड़ जाने के बाद इस मामले ने तूल पकड़ लिया है। बुधवार को रामलीला मैदान से भीड़ तुगलकाबाद के लिए निकली तो रास्ते में उग्र हो गई।

हमदर्द चौक पर आगजनी की भी घटना हुई है। इसमें भीम आर्मी के चीफ चंद्रशेखर भी शामिल हैं। 
 

यह भीड़ कनॉट प्लेस की ओर बढ़ रही है, जिनमें ज्यादातर लोगों के हाथों में लाठियां हैं। इससे अव्यवस्था का खतरा पैदा हो गया है । चिंताजनक बात की दिल्ली पुलिस भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर के आने और इतनी भीड़ के आने को लेकर बेपरवाह रही, इसलिए अर्ध सैनिक बल को भी तैनात नहीं किया गया।

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर दिल्ली में संत रविदास का मंदिर गिराए जाने के बाद से रविदास समाज के लोग गुस्‍से में हैं। अब इन लोगों ने यह एलान किया था कि इस फैसले के खिलाफ बुधवार को राजधानी के जंतर-मंतर पर धरना और प्रदर्शन करेंगे। इसी क्रम में जिले से श्री गुरु रविदास समाज और संत समाज का शिष्टमंडल मंगलवार को रवाना हो गया। शिष्टमंडल में शामिल लोगों का कहना है कि समुदाय के लोग पहले से ही जंतर मंतर पर पहुंच कर विरोध जता रहे हैं। इससे समाज का मनोबल बढ़ा है।

ये भी पढ़ेंः रविदास समाज के प्रदर्शन से थमी दिल्ली की रफ्तार, मेट्रो में भारी भीड़, देखें तस्वीरें

क्‍या है मामला
बता दें, दिल्ली में सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद 10 अगस्त को श्री गुरु रविदास मंदिर तोड़ दिया गया था। इसे लेकर रविदास समुदाय में भारी रोष है। इसके विरोध में 13 अगस्त को पंजाबभर में बंद करके हाईवे और सड़कों पर जाम लगाया गया था। इस समुदाय के लोग पंजाब की राजनीति में अच्छा-खासा असर रखते हैं।

दिल्‍ली-एनसीआर की खबरों को पढ़ने के लिए यहां करें क्‍लिक 

Posted By: Prateek Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप