नई दिल्ली, जागरण डिजिटल डेस्क। दिल्ली मेट्रो रेल निगम (Delhi Metro Rail Corporation) के लाखों यात्रियों को आने वाले दिनों एक और राहत मिलने जा रही है, जिससे उनका सफर सुगम और आसान हो जाएगा। बताया जा रहा है कि अगले कुछ दिनों के दौरान मेट्रो के सभी स्टेशनों पर बने गेट को खोलने की इजाजत मिल सकती है। दरअसल, बृहस्पतिवार को दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल के नेतृत्व में दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की के बैठक हुई, इसमें दिल्ली के तमाम आलाधिकारी भी मौजूद थे। इसमें राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र (एनसीडीसी) के निदेशक डा. सुशील कुमार सिंह भी मौजूद रहे। उन्होंने कहा कि राजधानी दिल्ली में मेट्रो स्टेशनों के सभी गेट खोले जा सकते हैं। इससे मेट्रो स्टेशनों पर लगने वाली यात्रियों की भीड़ कम होगी। हालांकि, डीडीएमए ने इस विषय पर अभी कोई निर्णय नहीं लिया है। माना जा रहा है कि अगले कुछ दिनों में दिल्ली मेट्रो के सभी गेट को खोलने जाने का एलान किया जा सकता है।

फिलहाल है यह इंतजाम

कोरोना वायरस संक्रमण के खतरे और प्रभाव के कारण 7 सितंबर, 2020 से ही दिल्ली मेट्रो के सभी गेट नहीं खोले जा रहे हैं। इसका मकसद यह है कि दिल्ली मेट्रो ट्रेनों में अधिक भीड़ नहीं हो और मेट्रो स्टेशनों पर भी नियम और झमता से अधिक यात्री न जमा हों। ऐसी स्थिति में लोग मास्क लगाकर और शारीरिक दूरी के नियम का पालन करते हुए यात्रा करें। ऐसे में डीएमआरसी रोजाना कई सारे स्टेशनों के गेट बंद करके रखता है। यात्रियों की एंट्री रोक दी जाती है। इसके चलते स्टेशनों के बाहर लोगों की भीड़ जमा हो जाती है। इस दौरान स्टेशन के बाहर शारीरिक दूरी के नियम भी पीछे छूट जाते हैं।

100 फीसद सिटिंग कैपिसिटी के साथ दौड़ रही है मेट्रो

मेट्रो ट्रेन के भीतर खड़े होकर यात्रा करने की मनाही है।  ट्रेनों में 100 फीसद सिटिंग कैपिसिटी के साथ ही सफर करने दिया जा रहा है। इस दौरान लोगों को एक-एक सीट छोड़कर बैठना पड़ता है, वरना उनका चालान कट जाता है। 

इस दौरान स्टेशनों के ज्यादातर एंट्री गेट बंद रखे गए हैं।  ऐसे में खासतौर से कश्मीरी गेट, राजीव चौक, हूडा सिटी सेंटर, मंडी हाउस, तीस हजारी, चावड़ी बाजार, लाल किला, जनपथ, केंद्रीय सचिवालय, नई दिल्ली, ओखला विहार, जामिया मिलिया इस्लामिया, भीकाजी कामा प्लेस जैसे मेट्रो स्टेशनों पर ज्यादा भीड़ रहती है।

Edited By: Jp Yadav