नई दिल्ली निहाल सिंह। छठ पर्व घाटों पर मनाए जाने के लिए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल द्वारा उपराज्यपाल को लिखे गए पत्र को भाजपा ने अपनी जीत बताया है। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष आदेश गुप्ता व उत्तर-पूर्वी दिल्ली के सांसद मनोज तिवारी ने इसे पार्टी कार्यकर्ताओं के संघर्ष का परिणाम बताते हुए दावा किया कि पार्टी के दवाब के आगे आखिरकार सरकार को झुकना पड़ा है। अब पूरी दिल्ली में घाटों पर धूमधाम से छठ पूजा मनाई जाएगी।

पूर्वांचल मोर्चा की जीत

आदेश गुप्ता ने कहा कि ये पूर्वांचल मोर्चा की जीत है, क्योंकि छठ जैसे महापर्व को रोकने का केजरीवाल सरकार द्वारा प्रयास असफल रहा है। इससे पूरी भाजपा और छठ उत्सव में आस्था रखने वाले भक्त खुश हैं। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने उपराज्यपाल अनिल बैजल को पत्र लिखकर कहा है कि छठ पूजा मनाने के लिए समय अनुकूल है और इस पर लगा प्रतिबंध हटाया जाना चाहिए। मुख्यमंत्री की यह भाषा और पत्र उनका यूटर्न है। क्योंकि, दो दिन पहले तक वह पूरे जोर के साथ छठ महापूजा मनाए जाने के खिलाफ थे।

आस्था के आगे टूटी जिद

दिल्ली भाजपा के पूर्व अध्यक्ष मनोज तिवारी ने छठी मैया की जयकार लगाते हुए कहा कि आस्था के आगे जिद टूटी है। जितनी कहानी मुख्यमंत्री ने आज की चिट्ठी में लिखी है, क्या ये सब प्रतिबंध लगाते समय उन्हें याद नहीं था? खैर देर आए दुरुस्त आए। चलो मिलकर छठ मनाएं। उन्होंने कहा कि सभी लोग कोरोना को लेकर जारी दिशा-निर्देशों का पालन करने करते हुए अनुशासित तरीके से घाट पर छठ मनाएंगे। मनोज तिवारी ने इस संघर्ष में सभी छठ समितियों को धन्यवाद ज्ञापित करते हुए कहा कि उन्होंने घाट पर छठ मनाने के संघर्ष में पूरा साथ दिया।

डीडीएमए के पत्र के बाद मचा है दिल्ली में सियासी बवाल

उल्लेखनीय है कि दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) ने छठ उत्सव मनाने की अनुमति नहीं दी थी। भाजपा अनुमति देने की मांग कर रही थी। मंगलवार को भाजपा ने इस मुद्दे को लेकर मुख्यमंत्री आवास के नजदीक विरोध प्रदर्शन भी किया था। वहीं, मनोज तिवारी ने वार्ड स्तर पर छठ यात्राएं शुरू कर दी थी।

Edited By: Prateek Kumar