नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। कालिंदी कुंज थाना क्षेत्र में लाकडाउन के दौरान मकान का किराया देने का दबाव बनाने पर एक युवक ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। मौके से चार पेज का सुसाइड नोट बरामद हुआ है, जिसमें मकान मालिक और कालिंदी कुंज थाने में तैनात एक पुलिसकर्मी व निगमकर्मी पर गंभीर आरोप लगाए हैं। कालिंदी कुंज थाना पुलिस ने केस दर्ज कर मकान मालिक बालाजी को गिरफ्तार कर लिया है। जबकि पुलिसकर्मी और नगर निगमकर्मी के खिलाफ जांच के आदेश दिए गए हैं।

जानकारी के अनुसार, करण सिंह अपने परिवार के साथ कालिंदी कुंज के खादर इलाके में रहता था और मुर्गा बेचता था, जबकि उसके माता-पिता सब्जी बेचते हैं। रविवार को करण ने अपने घर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। मौके पर पहुंची पुलिस ने करण के शव को कब्जे में लेकर मामले की जांच शुरू की। प्राथमिक जांच के दौरान पुलिस को करण के कमरे से एक चार पेज का सुसाइड नोट मिला। जिसमें मकान मालिक पर किराये के लिए दबाव बनाने व कालिंदी कुंज थाने में तैनात एक पुलिसकर्मी व नगर निगम कर्मी पर पैसे मांगने की बात लिखी थी।

सुसाइड नोट में लिखा है कि मकान मालिक बालाजी घर आकर किराया मांगता था और गाली गलौज व मारपीट करता था, जबकि पुलिसकर्मी खान ने लाकडाउन के दौरान उन्हें दुकान नहीं लगाने दी। दुकान लगाने के लिए पहले पुलिसकर्मी और निगमकर्मी तीन हजार रुपये लेते थे, लेकिन लाकडाउन के बाद दुकान खोलने के लिए 28 हजार रुपये की मांग की। पैसे नहीं देने पर दुकान नहीं खोलने दी।

पुलिस अधिकारी का बयान

- सुसाइड नोट में जिस पुलिसकर्मी और निगमकर्मी का नाम है, दोनों के खिलाफ जांच के आदेश दे दिए गए हैं। दोनों की भूमिका अगर होती है तो दोनों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

राजेन्द्र प्रसाद मीणा, पुलिस उपायुक्त, दक्षिण-पूर्वी दिल्ली

Edited By: Vinay Kumar Tiwari