जासं, नई दिल्ली: शाहीन बाग में सीएए व एनआरसी के विरोध में चल रहे धरना प्रदर्शन के कारण नोएडा से दिल्ली आने वाले लोगों को मुसीबत का सामना करना पड़ता है। रास्ता बंद होने के कारण कोई भी वाहन इस मार्ग पर नहीं चल रहा है, जिसके चलते लोगों को करीब एक किलोमीटर का सफर पैदल तय करना पड़ता है।

लोगों की इस मुसीबत को देखते हुए ऑटो चालकों ने पुलिस बैरीकेड के पास ही अस्थायी ऑटो स्टैंड बना लिया है। पैदल आने वाले लोग आगे जाने के लिए किसी भी दाम पर ऑटो से गंतव्य की तरफ जाते हैं। ऐसे में ऑटो चालकों की चांदी हो गई है। दो माह से चल रहे इस विरोध प्रदर्शन के चलते ई-रिक्शा चालक और ऑटो चालकों की चांदी हो गई है। ऑटो चालक पैदल चल कर आ रहे यात्रियों से मनमाना किराया वसूल रहे हैं।

परेशान यात्री मनमाने किराए पर सफर करने को मजबूर हैं। ई-रिक्शा चालकों ने अपना किराया दोगुना तक बढ़ा दिया है। वहीं, ऑटो चालकों ने पुलिस बैरीकेड के पास ही अस्थाई तौर पर ऑटो स्टैंड बना लिया है। चालक बैरीकेड के पास से ही यात्रियों को लेकर उनके गंतव्य तक छोड़ते हैं। मार्ग बंद होने के कारण डीटीसी बस और अन्य सवारी साधन बंद हो गए हैं। इसके चलते लोगों के पास कोई अन्य विकल्प नहीं है।

बता दें कि कि पिछले एक महीने से ज्यादा समय से शाहीन बाग में एनआरसी और सीएए को लेकर प्रदर्शकारी विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। इस प्रदर्शन में 3 बाग गोलबारी की घटना भी सामने आ चुकी है। रास्ता बंद होने के चलते आने-जाने वाले लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे में गुरुवार को गृह मंत्री अमित शाह ने प्रदर्शनकारियों से बातचीत करने पर हामी भरी थी, लेकिन अब इन प्रदर्शनकारियों की मांग है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उनसे मिले और इस कानून पर बातचीत करें।

Posted By: Pooja Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस