नई दिल्ली [विनीत त्रिपाठी]। कोरोना महामारी के बढ़ते मामलों के कारण दिल्ली के विभिन्न अस्पतालों में ऑक्सीजन का संकट जारी है। इसको लेकर पिछले एक सप्ताह से चल रही सुनवाई दिल्ली हाई कोर्ट में बृहस्पतिवार को भी जारी है। ऑक्सीजन की कमी, बेड और दवाओं के न मिलने के खिलाफ दायर याचिका पर दिल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई की बीच दोनों पक्ष अपनी-अपनी दलीलें पेश कर रहे हैं। बृहस्पतिवार को दिल्ली हाई कोर्ट में ऑक्सीजन आपूर्ति का मामला स्पष्ट होगा। अस्पतालों ने ऑक्सीजन, दवा, रेमडेसिविर इंजेक्शन की कमी को लेकर याचिका दायर की है। 

इससे पहले न्यायमूर्ति विपिन सांघी व न्यायमूर्ति रेखा पल्ली की खंडपीठ ने सुनवाई के दौरान बुधवार को केंद्र और दिल्ली सरकार से ऑक्सीजन बफर बनाने और वितरण प्रक्रिया को कारगर बनाने के लिए मिलकर काम करने को कहा। अदालत ने कहा इसके लिए सशस्त्र बलों की मदद मांगी जा सकती है क्योंकि गंभीर तात्कालिकता है । आपको इस पर एक साथ काम शुरू कर देना चाहिए। 

खंडपीठ ने कहा एक युद्ध में जब सामने एक आम दुश्मन आता है, आप इसके खिलाफ एकजुट हो जाते हैं भले ही आपमें मतभेद हों। अदालत ने कहा वर्तमान समय भी ऐसा ही है। आप एकजुट होकर काम करें तभी इससे निपटा जा सकता है।