नई दिल्ली, एएनआइ।  देशभर में कोरोना के बढ़ते प्रभाव और खतरे के बीच गेहूं की कटाई का समय भी आ गया है और कई राज्यों में तो इसकी कटाई भी शुरू हो गई है। ऐसे में बिहार, उत्तर प्रदेश, झारखंड और पश्चिम बंगाल से आए कामगार गेहूं की कटाई के सिलसिले में दिल्ली से वापस जाने लगे हैं। इसका नजारा बुधवार को नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पर भी देखने को मिला। यहां पर अचानक यात्रियों की भीड़ बढ़ गई। वहीं, नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पर बुधवार को नजारा देखकर लोग इसके अलग-अलग मायने निकाल रहे हैं। कुछ लोगों का कहना है कि दिल्ली में मंगलवार रात को नाइट कर्फ्यू लगा है, जो आगामी 30 अप्रैल तक रहेगा। ऐसे में कुछ लोग नाइट ड्यूटी करते थे और ओवर टाइम कर अतिरिक्त पैसा कमा लेते थे, जो अब संभव नहीं होगा, इससे वापस अपने गृहराज्य जा रहे हैं। वहां पर गेहूं कटाई के लिए मजदूरी कर ज्यादा पैसा कमा लेंगे।

Farmers Protest : पंजाब से मिला दिल्ली पुलिस को सबसे बड़ा चैलेंज, लक्खा सिधाना बोला- आ रहा हूं कुंडली बॉर्डर

इंटरनेट मीडिया पर उड़ाई जा रही लॉकडाउन की अफवाह

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पिछले सप्ताह ही साफ-साफ कह चुके हैं कि लॉकडाउन लगाने से पूरी तरह से विचार विमर्श किया जाएगा। कुछ लोग संभावित लॉकडाउन से भी डरे हुए हैं, लेकिन यह संभव नहीं है, क्योंकि माना जा रहा है कि दिल्ली सरकार के साथ केंद्र सरकार भी नहीं चाहती है कि लोगों का कारोबार और रोजगार प्रभावित हो और अर्थव्यवस्था पर असर पड़े।

Indian Railway News: राजस्थान, हरियाणा, गुजरात, यूपी, पंजाब और‍ एमपी के लिए स्पेशल ट्रेनों की हुई घोषणा, देखें रूट और समय

हालांकि, महाराष्ट्र समेत कई राज्यों के कुछ इलाकों में लॉकडाउन लागू किया गया है, जिससे यह शंका गहरा गई है। खासकर इंटरनेट मीडिया पर इस तरह की अफवाहें उड़ानें का सिलसिला जारी है, लेकिन लोगों को अफवाहों पर नहीं, बल्कि सरकार के निर्देशों पर ध्यान देना चाहिए।   

बीच सड़क पर जानिए क्यों भिड़ गए लालू यादव के समधी और हरियाणा के पूर्व मंत्री, जमकर हुई बहस

गेहूं की कटाई का सीजन आया, कामगार लौट रहे अपने घर

इस बीच जानकारों की मानें तो यह पहला मौका नहीं है, जब दिल्ली से कामगार बिहार, पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश और झारखंड जा रहे हैं। हर साल अप्रैल-मई में प्रवासी कामगार अपने-अपने गृहराज्य गेहूं की कटाई के लिए वापस लौटते हैं। 15-20 दिन के भीतर वापस आ जाते हैं। कई मजदूर इस दौरान अच्छी खासी रकम भी कमा लेते हैं।  ऐसे में ट्रेन के जरिये दिल्ली से प्रवासी कामगार अपने-अपने गृह राज्य जा रहे हैं। रेलवे स्टेशनों पर ऐसा ही नजारा आगे भी देखने को मिल सकता है।

ये भी पढ़ेंः Night Curfew in Ghaziabad: गाजियाबाद में आज रात से नाइट कर्फ्यू, जानें- किसे मिलेगी छूट व किन पर रहेगी पाबंदी

Rakesh Tikait की आंखों से आंसू छलकने से आया था सैलाब, अब 'हमला' ने खोल दी लोकप्रियता की पोल

शादियों का सीजन भी बुला रहा लोगों को

उत्तर प्रदेश, बिहार, राजस्थान, मध्य प्रदेश और पश्चिम बंगाल में ग्रामीण अप्रैल-मई में शादी-समारोह का आयोजन करते हैं। ऐसे में शादी का सीजन भी आने वाला है, यही वजह है कि लोग अपने गांव लौट रहे हैं। गौरतलब है कि इस साल विवाह का शुभ मुहूर्त 20 अप्रैल 2021 से शुरू हो रहा है, जिसमें एक पखवाड़े से भी कम का समय बचा है।

New Traffic Challan In Delhi: हरियाणा-यूपी समेत देशभर के वाहन चालक हो जाएं सावधान, इन गलतियों पर भरना होगा हजारों का चालान

पुजारियों और ज्योतिषियों के मुताबिक, इसके बाद देव शयन से पहले यानी 15 जुलाई तक 37 दिन विवाह के मुहूर्त हैं। इसके बाद फिर 15 नवंबर को देव उठनी एकादशी से 13 दिसंबर तक विवाह के लिए 13 दिन मिलेंगे। ऐसे में प्रवासी कामगार 20 अप्रैल से शुरू हो रहे शादियों के सीजन के लिए जा रहे हैं।

ये भी पढ़ेंःIndian Railways: दिल्ली में कोरोना के बढ़ रहे मामलों ने बढ़ाई रेलवे की चिंता, उठाया ये कदम


ये भी पढ़ेंः 
दिल्ली के हजारों लोगों को जल्द खुशखबरी देने के लिए सीएम केजरीवाल ने की मीटिंग, अधिकारियों के दिए ये निर्देश

 

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021