नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। Delhi Crime: पार्किंग काे लेकर हुई कहासुनी के बाद मैदानगढ़ी थाना क्षेत्र के छतरपुर इलाके में शुक्रवार को दर्जन भर बदमाशों ने एक युवक का अपहरण कर उसकी जमकर पिटाई की और उसे सड़क पर फेंककर फरार हो गए। दो बदमाशों को लोगों ने मौके पर ही पकड़ लिया और जमकर धुनाई करने बाद उन्हें पुलिस के हवाले कर दिया।

पीड़ित का आरोप है कि आरोपितों ने खुद को नीरज बवाना गिरोह का बदमाश बताते हुए उसे जान से मारने की धमकी दी है। दक्षिणी दिल्ली जिले की पुलिस उपायुक्त बेनिता मेरी जैकर ने बताया कि दो आरोपितों को गिरफ्तार किया गया है। वहीं, इलाज के बाद पीड़ित को अस्तपाल से छुट्टी दे दी गई है।

पुलिस को दी अपनी शिकायत में छतरपुर एक्सटेंशन निवासी पीड़ित शुभम डागर ने बताया कि वह बीए के छात्र हैं और यहां परिवार के साथ रहते हैं। शुभम ने बताया कि यहीं संजू सेजवाल किराए पर रहता है। वह अक्सर अपनी गाड़ी रास्ते में खड़ी कर देता है जिस कारण लोगों को आने-जाने में परेशानी होती है। इस बात को लेकर 18 अगस्त की सुबह पीड़ित शुभम डागर की संजू सेजवाल व उसके दोस्त शुभम से कहासुनी हुई थी।

इस दौरान संजू ने खुद को नीरज बवाना गिरोह का बदमाश बताते हुए उसे देख लेने की धमकी देकर चले गए। शाम करीब साढ़े छह बजे पीड़ित शुभम डागर अपने दोस्त वरुण डागर के साथ पास में ही कुछ काम से गया था। तभी संजू सेजवाल अपने दोस्त शुभम के साथ आया और पीड़ित शुभम डागर को डंडे व बिजली के केबल से पीटने लगा।

उन्होंने अपने 10-12 दोस्तों को बुला लिया और सब उन्हें पीटने लगे। इसके बाद आरोपितों ने उन्हें काले रंग की महिंद्रा स्कार्पियो में जबरदस्ती खींच लिया और छतरपुर एनक्लेव 100 फुटा रोड पर लाए। यहां गाड़ी से बाहर फेंका और पिटाई की। इस बीच घरवालों को सूचना मिली तो उन्होंने आकर शुभम डागर व वरुण को बचाया।

वारदात के दौरान संजू अपने दोस्तों को बबलू व रोहित के नाम से पुकार रहा था। वारदात के दौरान मौके पर जुटे मोहल्ले के लोगों ने संजू के दो दोस्तों गाैरव और मयंक को दबोचकर पुलिस के हवाले कर दिया। पीड़ित की शिकायत पर मामला दर्ज कर पुलिस संजू व उसके अन्य साथियों की तलाश कर रही है।

Edited By: Vinay Kumar Tiwari