नोएडा (जेेएनएन)। ग्रेनो वेस्ट स्थित गौर सिटी सोसायटी की 11वीं एवेन्यू में हुई मां-बेटी की हत्या की जांच में जुटी पुलिस टीम को कई अहम सुराग हाथ लगे हैं। ग्रेटर नोएडा के डबल मर्डर केस में ब्लू-वेल गेम का एंगल भी सामने आ रहा है। परिवार वालों का कहना है कि मुख्य संदिग्ध ब्लू वेल खेला करता था और उन्हें डर है कि वह सूसाइड भी कर सकता है।

बता दें कि मंगलवार को गौड़ सिटी -2 के 11वें ऐवेन्यू में मां अंजली और बेटी मणिकर्णिका की हत्या का मामला सामने आया था। इसमें संदिग्ध मृतक महिला का लापता बेटा प्रखर है। हत्या के बाद से 16 साल का बेटा लापता है।

यह भी पढ़ेंः मां-बहन की हत्या के बाद फ्लैट में था बेटा, क्या वह बाथरूम में नहाया भी था

उधर, पुलिस जांच में पता चला है कि घर का इकलौता बेटा प्रखर दिन में दस घंटे मोबाइल फोन पर गेम खेलता है। उसकी इन्हीं हरकतों की वजह से उसके पिता सौम्य अग्रवाल ने उससे सितंबर के महीने में मोबाइल छीन लिया। पिता के मोबाइल फोन छीनने के बाद वह अपनी मां के मोबाइल पर गेम खेलने लगा था।

पुलिस मां-बेटी की हत्या का आरोपी बेटे को मान रही है। पुलिस जांच में पता चला है कि मां व बहन की हत्या करने के बाद बेटा घर से करीब दो लाख रुपये भी अपने साथ लेकर गया है। घटनास्थल से बरामद बेटे के बैट पर विराट कोहली लिखा है। पुलिस ने उसके बैट व कैंची को फोरेंसिक जांच के लिए भेजा है।

फ्लैट की दीवारों और बेटे के कपड़ों पर खून लगा हुआ मिला है। दोहरे हत्याकांड के बाद आरोपी फ्लैट में एक घंटे तक रहा है। उसने कपड़े बदले और नहाया है।

वह नए जूते व जैकेट पहन कर आरोपी फ्लैट से निकला है। पुलिस जांच में यह भी पता चला है कि आरोपी के एक रिश्तेदार को इस बात की जानकारी है कि किशोर मोबाइल पर ग्रुप बनाकर अपने दोस्तों के साथ गेम खेलता था। पुलिस यह मानकर चल रही है कि किशोर ब्लू व्हेल गेम खेलता है। वह नोएडा स्थित एक स्कूल से 11वीं की पढ़ाई कर रहा था।

पुलिस को शक है कि लापता बेटे ने नियोजित ढंग से मां और बहन की हत्या की और उसके बाद वह रात को ही वहां से चला गया। लड़के के दादा कहना है कि अगर लापता बेटे ने हत्याओं को अन्जाम दिया है तो ब्लू वेल ऑनलाइन गेम बनाने वाले दोषी हैं और उन्हें सजा मिलनी चाहिए क्योंकि मोबाइल पर ब्लू वेल गेम खेलने की वजह से उसके पिता ने उससे मोबाइल फोन छीना था। इसके बाद वह नाराज रहता था।

 

By JP Yadav