नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। इस वर्ष नेहरू प्लेस डिस्ट्रिक्ट सेंटर को बने हुए 50 साल पूरे हो रहे हैं। इस साल के अंत तक पूरा नेहरू प्लेस बदला-बदला सा नजर आएगा। पिछले दो साल से नेहरू प्लेस के नवीनीकरण का काम चल रहा है जिसमें इसकी फर्श से लेकर बिल्डिंगों की रंगाई-पुताई तक का काम किया जा रहा है। इसके तहत सेंटर के सभी 89 भवनों की रंगाई व सीढ़ियों की मरम्मत की जा रही है। वहीं, डिस्ट्रिक्ट सेंटर के खुले क्षेत्र में टूट चुकी पुरानी टाइल्स को बदलकर नए पत्थर लगाए जा रहे हैं।

दक्षिणी दिल्ली नगर निगम की ओर से अप्रूवल मिलने के बाद वर्ष- 2019 में डीडीए ने यह काम शुरू किया था। इस साल जून तक काम पूरा होने की उम्मीद है। गौरतलब है कि वर्ष- 1972 में डीडीए ने 94 एकड़ में फैले इस डिस्ट्रिक्ट सेंटर का निर्माण करवाया था जिसे बाद में एसडीएमसी को हैंडओवर कर दिया गया था। यहां छाेटे-बड़े करीब पांच हजार दुकानें व आफिस हैं जिनमें 50 हजार से अधिक लोग काम करते हैं। वहीं, एक लाख से अधिक लोग प्रतिदिन यहां खरीदारी करने आते हैं। पिछले 50 सालों के दौरान यहां के भवन, बेसमेंट व पार्किंग एरिया व सीढ़ियां काफी जर्जर हो गई हैं। दुकानदार लंबे समय से इनकी मरम्मत व सुंदरीकरण की मांग कर रहे थे। वर्ष- 2019 में निगम की ओर से अप्रूवल मिलने के बाद काम शुरू करवाया गया था। यहां नए टायलेट ब्लाक भी बनाए जा रहे हैं।

मल्टीलेवल पार्किंग से दूर होगी समस्या

यहां दिल्ली-एनसीआर के अलावा अन्य राज्यों से भी लोग आते हैं इसलिए पार्किंग की समस्या भी होती है। पीक टाइम में सर्विस लेन तक वाहन खड़े रहते हैं जिससे आउटर रिंग रोड पर जाम भी लगता है। इस समस्या को दूर करने के लिए मार्केट के सामने आउटर रिंग रोड की ओर एक बहुमंजिला कार पार्किंग का निर्माण करवाया गया जा रहा है। इसमें 800 कारें पार्क की जा सकेंगी। पार्किंग का रखरखाव व संचालन निगम की ओर से किया जाएगा। यह पार्किंग चालू हो जाने से यह फायदा होगा कि यहां की दुकानों के मालिक व स्टाफ और विभिन्न आफिसों के स्टाफ जो यहां पूरा दिन रुकते हैं उनके वाहन इस पार्किंग में खड़े हो जाएंगे। वहीं, थोड़ी देर के लिए आने वाले ग्राहकों के वाहन मार्केट में स्थित अलग-अलग सर्फेस पार्किंग में पार्क किए जा सकेंगे।

नेहरू प्लेस मेट्रो स्टेशन से जोड़ने के लिए स्काइवाक

अभी नेहरू प्लेस मार्केट से नेहरू प्लेस मेट्रो स्टेशन आने-जाने के लिए लोगों को सड़क का डिवाइडर फांदना पड़ता है। इसकी वजह से यहां पर जाम भी लगता है। मार्केट व मेट्रो स्टेशन को जोड़ने के लिए यहां एक स्काइवाक बनाया जा रहा है। इसके जरिये लोग सड़क पार करके सीधे मेट्रो स्टेशन आ-जा सकेंगे। इसके बन जाने के बाद सड़क के डिवाइडर को ऊंचा करके उसमें हरियाली की जाएगी। गौरतलब है कि इस 89 टावर वाली मार्केट में छोटे-बड़े करीब 15 हजार दुकानें, शोरूम व आफिस आदि हैं जिनमें करीब एक लाख लोग काम करते हैं। वहीं, करीब एक लाख से ज्यादा ग्राहक मार्केट में रोजाना आते हैं। परिसर में 32 बैंक शाखाएं व 38 एटीएम बूथ हैं।

Edited By: Mangal Yadav