नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा ने बैंक में पहले से गिरवी रखी संपत्ति को फर्जी तरीके से अपनी पत्नी के नाम कर उसी संपत्ति पर कर्ज लेकर 2.77 करोड़ रुपये की ठगी करने वाले गंभीर सिंह को गिरफ्तार किया है। आरोपित के खिलाफ वर्ष 2020 अगस्त में मामला दर्ज किया गया था। विशेष पुलिस आयुक्त रविंद्र सिंह यादव ने बताया कि आनंद राठी ग्लोबल फाइनेंस लिमिटेड की शिकायत पर मामला दर्ज किया गया था।

बताया गया कि मेसर्स श्री गणेश ट्रेडिंग कंपनी के मालिक गंभीर और इसकी पत्नी रेणुका ठाकुर ने नंबर डब्ल्यूजेड-912 की संपत्ति को गिरवी रख 2.77 करोड़ रुपये का कर्ज लिया था। उक्त कर्ज 96 मासिक किस्तों चुकाने की बात तय हुई। लेकिन आराेपितों की तरफ से एक भी माह की किस्त नहीं दी गई। गिरवी रखी संपत्ति की की नीलामी के समय पता चला कि उक्त संपत्ति पहले से एक सरकारी बैंक में गिरवी रखी है।

शिकायत पर मामला दर्ज कर जांच शुरू की गई। जांच में पता चला कि उक्त गिरवी रखी संपत्ति का स्वामित्व पवन मोंगा की पत्नी रजनी मोंगा के नाम पर है। रजनी मोंगा और पवन मोंगा ने एक ही संपत्ति पर सरकारी बैंक से 1.5 करोड़ का कर्ज पहले ही ले रखा था। जांच में यह भी पता चला कि आरोपित गंभीर कारोबार के सिलसिले में पवन मोंगा के संपर्क में आया और दोस्त बन गया।

दोनों के पास आर्थिक तंगी थी। ऐसे में दोनों साजिश रच कर रजनी मोंगा के नाम की संपत्ति को रेणुका के नाम पर किया। उसके बाद 2.77 करोड़ रुपये का कर्ज लेकर फरार हो गए। मामले में पुलिस ने 19 सितंबर को आरोपित गंभीर को गिरफ्तार कर लिया। फिलहाल पुलिस मामले में अन्य की भूमिका की जांच कर रही है।

Edited By: Pradeep Kumar Chauhan

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट