नई दिल्ली ( संजीव गुप्ता)। weather Update in Delhi-Ncr: दिल्‍ली-एनसीआर की आसमान पर राहत के बादल छाए हुए हैं। मौसम के मिजाज को देखकर यह कहा जा सकता है कि आज दिल्‍ली-एनसीआर के लोगों को आज गर्मी से राहत मिल सकती है। राहत की बारिश से उन्‍हें इस उमस भरी गर्मी से निजात मिल सकती है। 

मानसून भी इस साल देरी से आया। दिल्ली में अब मानसून देर से नहीं आएगा। इसके आगमन की जो तिथि तय होगी, उसी के अनुरूप दो तीन दिन के अंतराल में यह राजधानी में दस्तक दे देगा। इसी तरह से इसकी विदाई भी अनिश्चित नहीं होगी बल्कि वह भी तय समय पर होगी। जी हां, अगले साल से राजधानी में मानसून के आने और जाने की तिथियां बदलने पर गंभीरता से विचार किया जा रहा है।

दशकों से तय है तिथि
जानकारी के मुताबिक दशकों से दिल्ली में मानसून के आगमन की तिथि 29 जून और वापसी की तारीख 20 सितंबर तय है। लेकिन, हर साल ही इसमें खासा अंतर देखने को मिल रहा है। हालांकि मौसम विज्ञानियों के मुताबिक दो चार दिन का अंतराल स्वाभाविक है, लेकिन अगर यह सप्ताह से आगे तक पहुंचने लगे तो उसमें बदलाव अनिवार्य हो जाता है।

दिल्‍ली ही नहीं देशभर की है स्‍थिति
मौसम विभाग के अधिकारियों की मानें तो यह स्थिति भी हालांकि केवल दिल्ली ही नहीं बल्कि देश भर में देखने को मिल रही है। इसी के मद्देनजर कुछ माह पूर्व केंद्रीय भूविज्ञान मंत्रालय ने पारिस्थितिकी विज्ञानी डॉ. माधव गाडगिल की अध्यक्षता में एक विशेषज्ञ समिति का गठन किया था।

समिति करेगी रिपोर्ट का आकलन
यह समिति अपनी रिपोर्ट में यही आकलन कर रही है कि जलवायु परिवर्तन सहित किन-किन कारणों से और देश के किन-किन हिस्सों में मानसून की पूर्व निर्धारित तिथियों में कितना बदलाव आया है। यह रिपोर्ट अगले कुछ माह में आ जाएगी। रिपोर्ट की सिफारिशों के आधार पर ही विभिन्न स्थानों पर मानसून के आगमन और वापसी की तिथियों में बदलाव किया जाएगा।

एक दशक देखा जा रहा बदलाव
बताया जाता है कि दिल्ली में भी पिछले एक दशक के दौरान मानसून की पूर्व निर्धारित तिथियों में बदलाव देखा जा रहा है। लेकिन, इन तिथियों में बदलाव का आधार उक्त समिति की रिपोर्ट ही बनेगी। संभावना जताई जा रही है कि दिल्ली में मानसून के आगमन की तारीख जुलाई के प्रथम सप्ताह और वापसी की तारीख सितंबर माह के अंतिम सप्ताह में से तय की जा सकती है।

अधिकारी ने कहा
मानसून के आगमन और विदाई की तिथियों में थोड़ा बदलाव आ रहा है। इसकी औपचारिक तिथियों में कोई भी बदलाव मंत्रालय के स्तर पर ही होगा।
कुलदीप श्रीवास्तव, प्रमुख, प्रादेशिक, मौसम विज्ञान केंद्र

मानसून की तिथियों में परिवर्तन को लेकर गाडगिल समिति आकलन कर रही है। समिति की रिपोर्ट की सिफारिशों के आधार पर बदलाव अगले साल से मान्य होगा।
डॉ. एम महापात्र, महानिदेशक, भारतीय मौसम विज्ञान विभाग

Monsoon Update: उत्तर भारत में भीषण उमस जारी, मौसम विभाग ने की ये भविष्यवाणी

दिल्‍ली-एनसीआर की खबरों को पढ़ने के लिए यहां करें क्‍लिक

 

Posted By: Prateek Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस