नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। Delhi Bomb Mock Drill: केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षाबल (सीआइएसएफ) और अन्य एजेंसियों ने सोमवार को राष्ट्रीय मीडिया केंद्र के पास बम का पता लगाने का अभ्यास किया। हालांकि, इस दौरान स्थानीय पुलिसकर्मियों व अधिकारियों को नहीं पता था कि यह माक ड्रिल है, लेकिन वे बुलंद हौसले के साथ अपना फर्ज निभाते हुए बम के सामने चट्टान की तरह टिक गए और माक ड्रिल (छद्म अभ्यास) के बम को बेदम कर दिया।असल में बम के रूप में खिलौने के आकार की एक वस्तु रखी गई और बम की सूचना की दहशत के बीच सुरक्षाकर्मियो की सक्रियता व आपसी तालमेल को परखा गया।

वहीं, बम की सूचना पर स्थानीय थाना पुलिस के साथ ही कई वरिष्ठ पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचे। एक तरफ सीआइएसएफ की बम डिस्पोजल स्क्वाड ने संदिग्ध वस्तु की जांच की, वहीं डॉग स्क्वाड ने राष्ट्रीय मीडिया केंद्र की जांच की। सीआइएसएफ के एक अधिकारी ने बताया कि इस तरह के खतरों से निपटने के लिए सुरक्षाकर्मियों की प्रतिक्रिया जांचने के लिए अभ्यास किया गया था।

संबंधित अधिकारी ने बताया कि मॉक ड्रिल को सरकारी भवन सुरक्षा इकाई ने अंजाम दिया था। वहीं, नई दिल्ली जिले के अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त विकास कुमार (Vikas Kumar, Additional Deputy Commissioner of Police, New Delhi District) ने बताया कि सीआइएसएफ की एक टीम ने सोमवार सुबह करीब 10 बजे एक संदिग्ध वस्तु देखी। तत्काल इसकी सूचना स्थानीय पुलिस को दी गई, जिसके आधार पर दिल्ली पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए मौके पर स्थिति को संभाला। बाद में उच्च अधिकारियों की तरफ से छद्म अभ्यास की बात बताई गई। पूरी कार्रवाई के दौरान पुलिस ने संवेदनशीलता से अपनी भूमिका निर्वहन किया। बता दें कि देश की राजधानी हमेशा ही संवेदनशील रहती है। अक्सर आतंकी समूह दिल्ली में बम धमाके की धमकी देते रहते हैं, ऐसे में मॉक ड्रिल अहम हो जाता है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप