नई दिल्ली, जेएनएन। कोरोना मरीजों के उपचार में प्रयोग होने वाले रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी के आरोप में दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है। दरअसल, दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा को रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी होने की जानकारी मिली थी। इससे जुड़ा एक वीडियो भी मिला था, जिसमें एक व्यक्ति इस इंजेक्शन को ब्लैक में देने की बात कर रहा था।

जांच में पता चला कि यह वीडियो लोनी रोड के दुर्गा पुरी एक्सटेंशन के पास स्थित गोयल मेडिकल स्टोर का है। वीडियो में दिख रहा व्यक्ति मेडिकल स्टोर में काम करने वाला रामअवतार शर्मा है। पुलिस ने बताया कि छापामारी के दौरान रामअवतार शर्मा को पकड़ा गया। उसकी निशानदेही पर मेडिकल स्टोर के संचालक बसंत गोयल को गिरफ्तार किया गया। यह विवेक विहार के रहने वाले हैं। अब पुलिस यह पता लगा रही है की इन दोनों ने अब तक कितने इंजेक्शन ब्लैक में बेच चुके हैं।

सम्मोहित कर आभूषण ठगने वाले मां-बेटे गिरफ्तार

वहीं, मालवीय नगर थाना पुलिस ने सम्मोहित कर महिलाओं कर ठगने वाले मां-बेटे को गिरफ्तार किया है। आरोपितों ने पंडित मदनमोहन मालवीय अस्पताल के बाहर जांच के लिए गई महिला से आभूषण ठग लिए थे। आरोपितों की पहचान शांति देवी और उसके बेटे प्रवीण के रूप में हुई है। पुलिस ने दोनों आरोपितों को कोर्ट में पेश किया, जहां महिला को न्यायिक हिरासत में, जबकि युवक को पुलिस कस्टडी में भेज दिया गया है।

दक्षिणी जिले के पुलिस उपायुक्त अतुल कुमार ठाकुर ने बताया कि नौ अप्रैल को मालवीय नगर थाना पुलिस को सुजाता नाम की महिला ने शिकायत दर्ज कराई। महिला ने बताया कि वह पंडित मदनमोहन मालवीय अस्पताल में जांच के लिए गई थीं। इस दौरान एक महिला ने उसे अपनी बातों में फंसाकर सम्मोहित कर लिया और उससे आभूषण ठग लिए। महिला के साथ उसका बेटा भी था। शिकायत मिलने पर पुलिस टीम ने घटनास्थल पर लगे सीसीटीवी फुटेज की जांच की, जिसमें सामने आया कि आरोपित महिला और उसका बेटा पीडि़ता से आभूषण ठग रहे हैं। आरोपितों की पहचान राजौरी गार्डन के रघुबीर नगर की रहने वाली शांति देवी और प्रवीण के रूप में की गई, जिन्हें पुलिस टीम ने दबिश देकर गिरफ्तार कर लिया। टीम प्रवीण से ठगी किए हुए आभूषण बरामद करने का प्रयास कर रही है।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021