नई दिल्ली [निहाल सिंह]। हाई कोर्ट की सख्ती के उत्तरी दिल्ली नगर निगम सतर्क हो गया है। दिल्ली पुलिस से मदद की गुहार के साथ ही निगम ने अपने कर्मियों की यहां तैनाती की है। विशेष रूप से चांदनी चौक की वाहनमुक्त सड़क पर अतिक्रमण रोकने के लिए उन्होंने इस सड़क को 29 बीट में विभाजित कर वहां पर 90 सिविल डिफेंस वालंटियर की तैनाती की है। अब इन कर्मियों की जिम्मेदारी होगी कि वह क्षेत्र को न केवल अतिक्रमण मुक्त रखें बल्कि गंदगी न हो इसको भी सुनिश्चित करें। इसके साथ ही नागरिकों को सिंगल यूज प्लास्टिक के उपयोग रोकने के लिए भी जागरुक करें।

अतिक्रमण के खिलाफ कार्रवाई

उत्तरी दिल्ली नगर निगम के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि वैसे तो जहां पर निगम अतिक्रमण के खिलाफ कार्रवाई करता वहां पर फिर से अतिक्रमण न हो इसकी जिम्मेदारी स्थानीय पुलिस की है। फिर भी निगम ने यहां पर तैनात सिविल डिफेंस कर्मियों को 29 बीट में विभाजित किया है। इनमें कर्मियों को दुकान नंबर के हिसाब से क्षेत्र बांटा गया है। यह कर्मी सुनिश्चित करेंगे कि यहां पर कोई अवैध रेहड़ी-पटरी वाला न आए। साथ ही फेरी वाले भी अवैध रूप से यहां पर सामान की बिक्री न करें।

चांदनी चौक इलाके में 62 बार चला अतिक्रमण अभियान

उन्होंने बताया कि यह कर्मी पहले नियमित रिक्शे ही चले इसकी निगरानी करते थे अब इनको यह भी जिम्मेदारी दी गई है। जिसमें वह अतिक्रमण न हो इस पर नजर रखेंगे। साथ ही गंदगी होने पर सफाई कार्य में जुटी कंपनी को अवगत कराकर क्षेत्र की सफाई कराएंगे। उल्लेखनीय है कि निगम एक अप्रैल 2021 से लेकर अब तक सुभाष मार्ग और चांदनी चौक इलाके में 62 बार अतिक्रमण के खिलाफ अभियान चलाया है। निगम का दावा है कि इस दौरान 126 किलोमीटर क्षेत्र को अतिक्रमण से मुक्त कराया गया।

निगम की कार्रवाई

  • 62 बार दोनों स्थानों पर अतिक्रमण के खिलाफ हुई कार्रवाई
  • 62 बार निगम ने पुलिस को पत्र लिखकर अतिक्रमण रोकने के लिए कहा
  • 126 किलोमीटर क्षेत्र को अतिक्रमण मुक्त कराने का निगम का दावा
  • 1482 वस्तुओं को निगम ने किया है जब्त
  • 1.20 लाख का जुर्माना निगम ने जब्त वस्तुओं को छुड़ाने से जुटाया है
  • 400 नियमित रिक्शे ही चांदनी चौक की मुख्य सड़क पर चलेंगे।

Edited By: Prateek Kumar