नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। पालम स्थित इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा (Indira Gandhi International Airport)  पर कस्टम विभाग ने लाखों रुपये के मास्क, सैनिटाइजर और पीपीई किट बरामद किए हैं। बच्चों के कपड़ों की आड़ में ये समान चीन सहित अमेरिका व खाड़ी देशों में भेजने की तैयारी थी।

इस बाबत आइजीआइ एयरपोर्ट के वरिष्ठ कस्टम अधिकारी ने बताया कि मंगलवार को एयर कार्गो एक्सपोर्ट यूनिट को सूचना मिली थी कि कोविड-19 महामारी के दौरान प्रतिबंधित किये गए सामान को छुपाकर चीन व अन्य देशों में निर्यात किया जा रहा है। अलग अलग लोगों ने विदेश भेजने के लिए कंसाइनमेंट बुक कराया था।

बताया जा रहा है कि टीम ने जब दिल्ली से चीन भेजे जा रहे कार्गो की तलाशी ली तो उसमें से मास्क बनाने के लिए 2480 किलो कच्चा माल बरामद हुआ। बाद में कैरियर टर्मिनल में बच्चों के कपड़ों वाले संदिग्ध पैकेटों की जांच की गई। इनमे से 5 लाख 8 हजार मास्क, 950 बोतल सैनिटाइजर और 952 पीपीई किट मिले।

अधिकारी ने बताया कि तैयार माल को अमेरिका, लंदन सहित खाड़ी देशों में भेजा जाना था। तस्करों ने कस्टम अधिकारियों को गुमराह करने के लिए कार्गो के डब्बों पर कपड़े और पाउच पैकिंग मैटेरियल लिखा हुआ था। अब कस्टम अधिकारी कार्गो भेजने वालों की पहचान कर उन्हें दबोचने के प्रयास में जुट गए है।

हेड कांस्टेबल ने की आत्महत्या, आइजीआइ एयरपोर्ट पर थे तैनात 

दिल्ली पुलिस के एक हेड कांस्टेबल ने सर्विस पिस्टल से गोली मारकर खुदकशी कर ली। मृतक का नाम स्वरूप चंद (55) था। वे आइजीआइ एयरपोर्ट थाना में तैनात थे। मौके से पुलिस को कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है। ऐसे में खुदकशी क्यों की गई है, यह छानबीन का विषय है। द्वारका नॉर्थ थाना पुलिस ने खुदकशी का मामला दर्ज कर घटना की छानबीन शुरू कर दी है। स्वरूप चंद मूल रूप से हिमाचल प्रदेश स्थित कांगड़ा स्थित बालह गांव के रहने वाले थे।स्वरूप चंद द्वारका सेक्टर-16बी स्थित पुलिस क्वॉर्टर में अपने परिवार के साथ रहते थे। परिवार में पत्नी के अलावा एक बेटी व एक बेटा हैं।

पुलिस के अनुसार एयरपोर्ट जैसे संवेदनशील स्थान पर तैनाती के कारण कुछ पुलिसकर्मी समय-समय पर कुछ दिनों के लिए सेल्फ क्वारंटाइन में चले जाते हैं। स्वरूप चंद भी पिछले कुछ दिनों से सेल्फ क्वारंटाइन में थे। सेल्फ क्वारंटाइन पूरा करने के बाद वे बुधवार को ही ड्यूटी पर गए। ड्यूटी पूरी करने के बाद वे अपने घर लौटे। बृहस्पतिवार शाम जब घर के सभी सदस्य आपस में बातें कर रहे थे, उस समय स्वरूप चंद अपने कमरे में अकेले थे। तभी अचानक सभी को गोली चलने की आवाज सुनाई दी। घर के सभी लोग कमरे में गए तो देखा कि स्वरूप चंद खून से लथपथ हैं।

पड़ोसियों को परिवार के सदस्यों ने मदद के लिए बुलाया। इस बीच वहां मौजूद किसी व्यक्ति ने मामले के बारे में पुलिस को अवगत कराया। इसके पहले की पुलिस मौके पर पहुंचती वहां मौजूद लोग उन्हें लेकर अस्पताल जा चुके थे। इसके बाद पुलिस टीम के कुछ सदस्य अस्पताल पहुंचे जहां पता चला कि उन्हें मृत घोषित कर दिया गया है। पुलिस का कहना है कि अभी परिजनों की हालत ऐसी नहीं है कि उनके घटना के बारे में कुछ पूछताछ की जा सके।

Posted By: JP Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस