नई दिल्ली [राहुल सिंह]। अयोध्या में राम मंदिर के भूमि पूजन को राजधानी में भी राम भक्तों ने महोत्सव के रूप में मनाया। इस कारण पहली बार गेंदे के फूल की कीमत गुलाब के फूल से अधिक पहुंची। भक्तों ने जमकर गेंदे के फूल खरीदे और अपने घर व आसपास के मंदिरों को सजाया। गाजीपुर फूल मंडी के पदाधिकारियों की मानें तो अब तक कभी ऐसा नहीं हुआ कि जब गेंदा की कीमत गुलाब से अधिक हुई हो।

लोगों ने अपने घरों और आसपास के मंदिरों को राममय करने के लिए गेंदों के फूलों की खरीदारी की। फूल की दुकान लगाने वाले दुकानदारों और आम लोगों ने एक दिन पहले ही गेंदे के फूल के ऑर्डर दिए, जिसके चलते बुधवार को गेंदे के फूल की कीमत में उछाल आया। मंडी में बुधवार को गेंदे के फूल की कीमत 220 रुपये से लेकर 250 रुपये प्रति किलो दर्ज की गई, जबकि बुधवार को ही गुलाब के फूल की कीमत 120 से 150 रुपये प्रति किलो दर्ज की गई।

गाजीपुर फूल मंडी के चेयरमैन विजय सिसोदिया ने बताया कि पहली बार ऐसा हुआ कि गेंदे के फूल की कीमत गुलाब से अधिक हुई है। दिवाली और अन्य त्योहार पर भी ऐसा नहीं होता था, लेकिन बुधवार को बड़ी संख्या में लोगों ने फूल खरीदकर अपने घरों, सोसायटी और आसपास के मंदिरों को सजाया है। विजय सिसोदिया ने बताया कि दिल्ली से हरियाणा, उप्र और उत्तराखंड के जिलों में फूलों की आपूर्ति की जाती है। इसके अलावा मथुरा, वृंदावन और हरिद्वार में खास तौर से दिल्ली से फूल भेजे जाते हैं।

15 वाली माला 30 रुपये में बेची गई

फूल की दुकान लगाने वाले मोहन कुमार ने बताया कि गेंदा की कीमत अधिक होने के कारण इसका असर छोटी दुकानों पर भी पड़ा। उन्होंने बताया कि वह जिस माला को 10 से 15 रुपये में बेचते थे उसकी बुधवार को 30 रुपये कीमत की गई। इसके बावजूद सारी मालाओं की ब्रिकी हुई। उन्होंने बताया कि बड़ी माला 30 रुपये की बेची जाती थी, जिसको अब 50 रुपये में बेचा जा रहा है। उन्होंने बताया कि बुधवार को लोगों ने घर को सजाने के लिए फूल मालाएं खरीदी हैं। इसके अलावा लोगों ने अशोक और केले के पत्तों की मालाएं भी खरीदी हैं।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस