नई दिल्ली [जेएनएन]। राजधानी में सियासी ड्रामा तीसरे दिन बुधवार को भी जारी रहा। अपनी बात मनवाने का दबाव बनाने के लिए केजरीवाल के साथ राजनिवास में धरने पर बैठे मंत्री सत्येंद्र जैन के साथ बुधवार से उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने भी भूख हड़ताल शुरू कर दी।

राजघाट पर कैंडल मार्च का प्लान 

वहीं, आम आदमी पार्टी अधिकारियों के मुद्दे पर शुरू की गई इस लड़ाई को किसी अंजाम तक पहुंचाने की कोशिश में जुटी हुई है। इसी के तहत विधायकों पर दबाव बनाकर 'आप' ने पैदल मार्च में भीड़ इकट्ठी कर शक्ति प्रदर्शन किया। इसके साथ ही 'आप' ने बृहस्पतिवार से प्रतिदिन राजघाट पर कैंडल मार्च निकालने का एलान किया है। 'आप' ने कहा है कि इस पर भी समस्या हल नहीं हुई तो रविवार को प्रधानमंत्री कार्यालय का घेराव किया जाएगा। 

सिसोदिया ने एलजी को लिखा पत्र 

बुधवार को डॉक्टरों की टीम ने जैन और सिसोदिया के स्वास्थ्य की जांच की। सिसोदिया ने बुधवार को उपराज्यपाल के नाम पत्र लिखा है और कहा है कि हम लोग तीन दिन से आपके प्रतीक्षालय में बैठे हुए हैं। मगर आपके पास हम लोगों से मिलने का समय नहीं है। दो पेज के इस पत्र में सिसोदिया ने अपने मन की भड़ास भी उपराज्यपाल पर निकाली है। 

केजरीवाल का सम्मान होना चाहिए

उधर, केंद्र सरकार, उपराज्यपाल निवास और दिल्ली सरकार में काम कर रही नौकरशाही की नजर इस पूरे मामले पर है। वहीं, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने केजरीवाल का समर्थन किया है। उन्होंने कहा है कि अधिकारियों द्वारा हड़ताल किया जाना गलत है। मुख्यमंत्री केजरीवाल का सम्मान होना चाहिए। 

यह भी पढ़ें: दिल्ली के सियासी ड्रामे में हस्तक्षेप नहीं करेगा केंद्र, केजरीवाल को खुद करनी चाहिए पहल

By Amit Mishra