नई दिल्ली (राज्य ब्यूरो)। रात के समय यदि आप पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन से सफर करते हैं तो आपकी परेशानी बढ़ सकती है। इसका कारण है रेल प्रशासन का तुगलकी फरमान। प्रशासन ने सफाई के नाम पर ए-1 श्रेणी के इस स्टेशन के सभी शौचालयों को रात में बंद करने का फैसला किया है। इससे यात्रियों की परेशानी बढ़ गई है। स्वच्छता श्रेणी में पिछड़ने वाले इस स्टेशन पर सफाई-व्यवस्था को सुधारने के बजाय शौचालय को बंद करने से यात्रियों में रोष है।

रात के समय शौचालय को बंद करने का निर्णय
पुरानी दिल्ली राजधानी का सबसे पुराना रेलवे स्टेशन है। यहां से रोजाना करीब 200 रेलगाड़ियों का संचालन होता है। इसके विकास को लेकर कई योजनाएं चल रही हैं, लेकिन सफाई-व्यवस्था नहीं सुधरी है। यही कारण है कि अगस्त में जारी स्वच्छता रैंकिंग में 75 ए1 श्रेणी के स्टेशनों में यह 54वें नंबर पर रहा था। पिछले दिनों स्वच्छता पखवाड़ा के तहत रेल मंत्री पीयूष गोयल ने इस स्टेशन का दौरा किया था। उन्होंने स्टेशन पर फैली गंदगी देखकर नाराजगी जताई थी। उन्होंने स्टेशन निदेशक को फटकार भी लगाई थी। इसके बाद स्टेशन निदेशक ने स्टेशन को साफ रखने का नया तरीका निकाल लिया। उन्होंने रात के समय शौचालय को बंद करने का निर्णय ले लिया।

यात्री खुले में शौच जाने को मजबूर
24 सितंबर को इस स्टेशन पर हुई कार्य योजना बैठक में स्टेशन पर बने सभी पांच शौचालयों को रात 11 से सुबह 6 बजे तक बंद करने का फैसला किया गया। साहब के इस फरमान पर तत्काल अमल शुरू हो गया है। रात में शौचालयों पर ताला लगा दिया जा रहा है। इस वजह से यात्री खुले में शौच जाने को मजबूर हो रहे हैं। इस बारे में रेलवे अधिकारियों का अपना तर्क है। उनका कहना है कि शौचालयों की सफाई के लिए यह कदम उठाया गया है। रात में ट्रेनें नहीं हैं, इसलिए किसी को दिक्कत नहीं है।

कई लोग रात में स्टेशन पर ही रूक जाते हैं
गौरतलब है कि रात 11 से सुबह छह बजे तक 28 ट्रेनें इस स्टेशन से संचालित होती हैं। इसके साथ ही अक्सर ट्रेनें घंटों देरी से पहुंचती हैं। देर से ट्रेन पहुंचने के कारण कई लोग रात में स्टेशन पर ही रूक जाते हैं। इसमें से कई बीमार होते हैं, जिन्हें शौचालय की जरूरत होती है। इसके बावजूद रेल प्रशासन ने शौचालयों को बंद करने का फैसला कर लिया। इस कदम से पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन पर तैनात कई कर्मचारी भी नाखुश हैं।

आसपास के लोग शौच के लिए स्टेशन पहुंच जाते हैं
कई कर्मचारियों का कहना है कि अधिकारियों का फरमान है इसलिए विरोध भी नहीं कर सकते। कई अधिकारी यह दलील दे रहे हैं कि स्टेशन के आसपास के लोग शौच के लिए स्टेशन पहुंच जाते हैं। इसलिए इस तरह का कदम उठाना पड़ा है। यदि यह सही है तो यह पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन की सुरक्षा के लिए यह गंभीर मामला है।

लागू है शौचालय बंद करने का आदेश
इस बारे में दिल्ली के मंडल रेल प्रबंधक आरएन सिंह का कहना है कि सिर्फ बीती रात 12 बजे से सुबह चार बजे तक सफाई के लिए शौचालय बंद किया गया था। दूसरी ओर पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन के कर्मचारियों का कहना है कि रात में शौचालय बंद करने का आदेश अब भी लागू है।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप