गाजियाबाद, जेएनएन। दिल्ली से सटे गाजियाबाद के इंदिरापुरम की ज्ञान खंड-4 में पत्नी व तीन बच्चों की हत्या कर फरार आरोपित सॉफ्टवेयर इंजीनियर सुमित ने गिरफ्तारी के बाद अहम खुलासा किया है। बुधवार दोपहर प्रेस वार्ता में पुलिस ने बताया कि सुमित बुरी तरह नशे की गिरफ्त में था और उसकी नौकरी भी नहीं थी। आर्थिक तंगी की वजह से वह परेशान था, इसी वजह से सुमित ने पत्नी अंशु और तीनों बच्चों की हत्या की। बता दें कि मंगलवार रात ही पुलिस ने कर्नाटक से सुमित कोगिरफ्तार कर लिया था।

पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक, हत्यारोपी सुमित को मंगलवार रात कर्नाटक से गिरफ्तार किया गया। हत्या करने के बाद आरोपी सुमित ट्रेन से वहां पहुंचा था। रतलाम से उसने पारिवार के वॉट्सऐप समूह पर 2 मिनट 40 सेकंड की एक वीडियो डाली थी, जिसमें सुमित ने कहा था कि वह परिवार को नहीं पाल सकता। आर्थिक तंगी में वह अपनी पत्नी और बच्चों को कोल्ड ड्रिंक में नींद की दवाइयां देकर सुला दिया। इसके बाद उसने सभी की गला रेत कर हत्या कर दी। वीडियो में उसने कहा था उसके पास पोटैशियम सायनाइड है अगले 5 मिनट में वह पोटैशियम सायनाइड खाकर जान देने जा रहा है।

 नशे का आदी है सुमित

गिरफ्तार आरोपी सुमित नशे का आदी है। वह नशे के लिए मेडिकल स्टोर से दवाइयां खरीद कर खाता था। नौकरी छोड़ने के बाद आर्थिक तंगी में वह पत्नी से झूठ बोलकर पैसे लेता और नशा करता था। इसका उसकी पत्नी अंशु बाला विरोध करती थी। इस पर भी दोनों के बीच कहासुनी पर लड़ाई हो जाती थी।

मेडिकल स्टोर संचालक ने दिया था नकली पोटैशियम सायनाइड

इंदिरापुरम के मकनपुर में हुकम मेडिकल स्टोर संचालक मुकेश को इंदिरापुरम पुलिस ने गिरफ्तार किया था। मुकेश ने ही हत्यारोपी सुमित को नींद की गोलियां और पोटैशियम सायनाइड बताकर अन्य दवाइयां दी थी। सुमित को विश्वास हो इसलिए मेडिकल स्टोर संचालक मुकेश ने 22,500 रुपये भी लिए थे। पुलिस सूत्रों की मानें तो पोटैशियम सायनाइड ना होने के कारण सुमित आत्महत्या नहीं कर सका और कर्नाटक में जाकर छिप गया। मोबाइल लोकेशन और उसके परिवारजनों की मदद से पुलिस ने सुमित को गिरफ्तार किया।

क्या है पूरा मामला

मूलरूप से रोड नंबर 6 आदित्यपुर सिंह भूमि (पश्चिम) झारखंड निवासी सुमित(33) अपनी पत्नी अंशु बाला(30) और बेटे प्रथमेश (7) आरव (4) और बेटी आकृति(4) के साथ इंदिरापुरम के ज्ञान खंड चार में रहता था। आरो व आकृति जुड़वां थे। सुमित की शादी वर्ष 2011 में बिहार के सारण जिला स्थित अंजनी मां के निवासी अंशु बाला से हुई थी। सुमित बेंगलुरु की एक बहुराष्ट्रीय कंपनी में सॉफ्टवेयर इंजीनियर था। फिलहाल उसने नौकरी छोड़ दी थी। बीती 20 अप्रैल की रात सुमित ने कोल्ड ड्रिंक में नींद की गोलियां देकर पत्नी व तीनों बच्चों को सुला दिया। इसके बाद उसने धारदार हथियार से सभी की गला रेत कर हत्या कर दी और फरार हो गया। इस मामले में मृत अंशु बाला के भाई पंकज ने इंदिरापुरम थाने में सुमित के खिलाफ हत्या की रिपोर्ट दर्ज कराई है।

दिल्ली-NCR की ताजा खबरों को पढ़ने के लिए यहां करें क्लिक

Posted By: JP Yadav