नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने मेवात के रहने वाले कुख्यात अंतरराज्यीय एटीएम लुटेरा शोराब उर्फ सबा को हरियाणा के नूंह से गिरफ्तार किया है। शोराब दिल्ली व हरियाणा में एटीएम काटकर उससे दो करोड़ रुपये लूटने के 20 मामले में वांछित था। इसपर दिल्ली पुलिस की तरफ से 50 हजार का इनाम था। स्पेशल सेल की कई टीमें अबतक 20 से अधिक एटीएम लुटेरे को गिरफ्तार कर जेल भेज चुकी है।

डीसीपी स्पेशल सेल प्रमोद सिंह कुशवाहा के मुताबिक शोराब नूंह का ही रहने वाला है। दो अप्रैल को तड़के 4.30 बजे एसीपी अत्तर सिंह व इंस्पेक्टर ईश्वर सिंह के नेतृत्व में पुलिस टीम ने शोराब को सिल्हो टोल प्लाजा, नूंह के पास से गिरफ्तार कर लिया।

दिल्ली में हाल के महीने में एटीएम तोड़ने की कई घटनाओं के मद्देनजर ईश्वर सिंह को ऐसे गिरोह के अपराधियों के बारे में पता लगा लुटेरे को गिरफ्तार करने की जिम्मेदारी सौंपी गई थी। पुलिस को जानकारी मिली थी कि शोराब, राजस्थान में छिपा हुआ है। दो अप्रैल को जब शोराब एक टैक्सी में सवार होकर मेवात में किसी से मिलने जा रहा था तभी उसे दबोच लिया गया।

उसने कुबूला कि वह दिल्ली-एनसीआर में एटीएम तोड़ने, उखाड़ने और नकदी निकालने के लिए प्रेरित करने वाले एटीएम लुटेरों के दो मेवात आधारित अंतरराज्यीय गिरोहों का सक्रिय सदस्य है। सरगना शाहिद उर्फ आडवाणी सहित सात गिरोह के सदस्यों के साथ शोराब ने 2019 में दिल्ली और हरियाणा में आठ एटीएम उखाड़े थे। शोराब दो साल से फरार था और वह इन सभी मामलों की सुनवाई में अदालतों में पेश नहीं हो रहा था। उसे कई मामलों में भगोड़ा घोषित करने की प्रक्रिया चल रही थी। शोराब छह अन्य लुटेरों के साथ दिसंबर व जनवरी में गैस कटर और अन्य उपकरणों के साथ 12 एटीएम काटकर 1.35 करोड़ लूट लिए थे।

लुटेरे एटीएम बूथों में घुसने के बाद सीसीटीवी कैमरों पर काले रंग का स्प्रे कर देते थे। उसके बाद वे गैस-कटर की मदद से एटीएम काटकर उससे कैश केबिन निकाल फरार हो गए थे। दोनों गिरोहों में शोराब का मुख्य काम एटीएम की जांच करना था। वह विशेषज्ञ मैकेनिक होने के नाते, यह तय करता था कि क्या एटीएम को गैस कटर और अन्य उपकरणों की मदद से खोला जाना है या एटीएम मशीन को उखाड़ना है।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021