नई दिल्ली [राकेश कुमार सिंह]। पहलवान सागर धनखड़ हत्याकांड में उत्तर-पश्चिमी दिल्ली जिले की 10 से अधिक टीमें हत्यारोपित ओलंपियन सुशील पहलवान समेत उसके गुर्गो की तलाश में जुटी हैं। पुलिस दिल्ली-एनसीआर समेत हरियाणा, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के कई संभावित ठिकानों पर छापेमारी कर रही है, लेकिन उसे अभी तक सफलता नहीं मिली है। पुलिस से जुड़े सूत्रों के अनुसार जल्द ही यह मामला क्राइम ब्रांच को ट्रांसफर हो सकता है। सुशील कहीं देश छोड़ विदेश ना भाग जाए, इसलिए उसके खिलाफ लुकआउट सर्कुलर जारी कर दिया गया है। देश के सभी एयरपोर्ट को सुशील के बारे में जानकारी दे दी गई है। उधर, वारदात के बाद सुशील अपने गुर्गो के साथ हरिद्वार भाग गया था। उसके मोबाइल लोकेशन से इसकी पुष्टि हुई है। हालांकि उसके बाद से उसने अपने तीनों मोबाइल फोन नहीं खोले हैं। पुलिस को शक है कि वह सड़क मार्ग से नेपाल भी भाग सकता है। वहां उसके रहने के कई ठिकाने हैं।

ससुर सतपाल और साले से मॉडल थाने में पांच घंटे पूछताछ

पुलिस ने घटना वाली रात यानी मंगलवार को ही एक हत्या आरोपित प्रिंस दलाल को दबोचा था। उससे पूछताछ के बाद अब तक 10 आरोपितों की पहचान तो हुई है, लेकिन कोई पकड़ा नहीं गया। इसको लेकर शुक्रवार को पुलिस ने सुशील के ससुर और एशियन गेम्स पदक विजेता सतपाल और साले लव सहरावत को मॉडल टाउन थाने बुलाकर करीब पांच घंटे तक पूछताछ की। सतपाल से पूछा गया कि सुशील कहां छिपा है। उसने सागर धनखड़ की हत्या क्यों की। हालांकि उन्होंने सुशील के ठिकाने के बारे में किसी भी जानकारी से इन्कार किया।

सुशील और उसके साथियों के खिलाफ अधिकतर ने दिए बयान

डॉ. गुरइकबाल सिंह सिंधु (एडिशनल डीसीपी, दिल्ली) का कहना है कि पुलिस ने स्टेडियम में काम करने वाले सुरक्षा गार्ड समेत 17 कर्मचारियों से पूछताछ की है। अधिकतर ने सुशील और उसके साथियों के खिलाफ बयान दिए हैं। 

हत्या में शामिल सुशील के एक और खास की पहचान

पहले पुलिस ने सुशील के खास लोगों के तौर पर अजय, डॉली, मोहित आदि की पहचान की थी। अब सुशील के खास के तौर पर फरीदाबाद के रहने वाले भूपेंद्र उर्फ भूपी की पहचान हुई है। उसके खिलाफ आ‌र्म्स एक्ट, उगाही, हत्या, हत्या के प्रयास आदि के आठ मामले फरीदाबाद के अलग-अलग थानों में दर्ज है।