नई दिल्‍ली, एएनआइ। दिल्‍ली के तिहाड़ जेल में निर्भया के गुनहगारों को आज यानि 20 मार्च, 2020 को फांसी दी गई। इस दौरान पूरे तिहाड़ जेल के आसपास से लेकर अंदर तक सुरक्षा पूरी सख्‍त थी। इधर, तिहाड़ जेल के डीजी ने निर्भया के गुनहगारों के बारे में एक अहम खुलासा किया है। उन्‍होंने चारों दोषियों के मौत से चंद घंटे पहले के व्‍यवहार के बारे में बताया।

बताया रात के खाने के बारे में

डीजी ने बताया कि रात को जब इन चारों दोषियों को खाना दिया गया तब मुकेश और विनय ने रात को खाना खा लिया था वहीं अक्षय और पवन ने रात को खाना नहीं खाया। अक्षय के बारे में बताया कि वह खाना तो नहीं खाया मगर रात को चाय पीया था।

फांसी से पहले विनय रोने लगा

इसके बाद जब फांसी देने के लिए ले जाया जा रहा था तब के व्‍यवहार के बारे में बताया कि विनय फांसी देने से पहले रोने लगा था। हालांकि कुल मिला कर उनका व्‍यवहार शांत था।

पोस्‍टमार्टम की वीडियो रिकॉर्डिंग

इधर, परिजनों के बारे में बताया कि अगर चारों के परिजनों में से कोई अगर नहीं आता है तो इन चारों के शवों का जेल प्रशासन की मौजूदगी में अंतिम संस्‍कार किया जाएगा। हालांकि इधर डीडीयू में पोस्‍टमार्टम की व्‍यवस्‍था की गई है, जहां तीन सदस्‍यीय पैनल इसके लिए पहले से तैयार किया गया था। इस पैनल में फोरेंसिक विभाग के विभागाध्यक्ष के अलावा दो वरिष्ठ चिकित्सक हैं। पूरी प्रकिया की वीडियो रिकॉर्डिंग करने का भी आदेश है।

अक्षय की पत्‍नी ने की शव की पहचान

इधर, डीडीयू अस्पताल में अक्षय की पत्नी शव लेने के लिए पहुंच चुकी है। अक्षय के शव की पहचान की जा चुकी है। अभी तक विनय, मुकेश व पवन के परिजन नहीं पहुचे हैं।

ये भी पढ़ेंः Nirbhaya Case: दिल्ली पुलिस की बेहतरीन तफ्तीश का नजीर बना निर्भया कांड, ऐसे जुटाए गए सबूत

 Nirbhaya Case: दोषियों के वकील बोले- फांसी मत दो, इन्हें भारत-पाक या चीन सीमा पर भेज दो

 Nirbhaya Case: विनय की कॉलोनी में पसरा सन्नाटा, पिता ने कहा माफ कर दें निर्भया की मां

Nirbhaya Justice: दरिंदगी से शर्मसार हुई थी कानून व्यवस्था, रिपोर्ट में केंद्र और पुलिस की हुई थी खिंचाई

दिल्‍ली-एनसीआर की खबरों को पढ़ने के लिए यहां करें क्‍लिक

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप