नई दिल्ली (जेएनएन)। दिल्ली सरकार के मुख्य सचिव अंशु प्रकाश के साथ बदसुलूकी व मारपीट मामले में उत्तरी जिला पुलिस मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से शुक्रवार को पूछताछ करेगी। इस आम आदमी पार्टी मुखिया अरविंद केजरीवाल ने नया दांव चलते हुए कहा कि वह पूछताछ की वीडियो रिकार्डिंग खुद भी कराएंगे। इस बाबत उन्होंने यह भी कहा है कि अगर उसमें कोई दिक्कत है तो पुलिस खुद ही वीडियो रिकार्डिंग की एक कापी उन्हें मुहैया कराए।

बता दें कि बुधवार को सिविल लाइंस थाना पुलिस ने मुख्यमंत्री को नोटिस भेजकर पूछताछ के संबंध में सूचना दे दी है। पुलिस ने उनसे 18 मई को सुबह 11 बजे घर अथवा अपने कार्यालय में मौजूद रहने के लिए कहा है। उनकी सुविधा के अनुसार पुलिस ने घर अथवा कार्यालय जाकर पूछताछ करने का निर्णय लिया है।

उत्तरी जिले के एडिशनल डीसीपी हरेंद्र कुमार सिंह ने केजरीवाल को नोटिस भेजने की पुष्टि की है। उन्होंने कहा कि जिस बैठक में मुख्य सचिव के साथ मारपीट हुई थी, वह मुख्यमंत्री के कहने पर ही बुलाई गई थी। केजरीवाल के ड्राइंग रूम में बैठक हुई थी।

मारपीट के दौरान पूरे समय तक वह ड्राइंग रूम में मौजूद थे। इसलिए उनसे पूछताछ जरूरी है। हरेंद्र कुमार सिंह ने कहा कि वह खुद अपनी टीम के सदस्य एसीपी अशोक त्यागी व इंस्पेक्टर राणा के साथ केजरीवाल से विस्तार से पूछताछ करेंगे।

उनसे पूछताछ के बाद सामने आए तथ्यों के आधार पर उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया से पूछताछ की जाएगी। सूत्रों के मुताबिक, मुख्य सचिव से मारपीट मामले में केजरीवाल व सिसोदिया को पुलिस मुख्य संदिग्ध आरोपित मान रही है। इस मामले में उत्तरी जिला पुलिस आम आदमी पार्टी (आप) के 11 विधायकों प्रकाश जारवाल, राजेश ऋषि, राजेश गुप्ता, ऋतुराज गोविंद, मदनलाल, अमानतुल्लाह खां, प्रवीण कुमार, अजय दत्त, दिनेश मोहनिया, संजीव झा व नितिन त्यागी के अलावा केजरीवाल के सलाहकार रहे वीके जैन, निजी सचिव विभव कुमार, कार्यकर्ता विवेक कुमार, मुख्य सचिव के दो पीएसओ एवं चालक से पूछताछ कर चुकी है।

पुलिस के मुताबिक, पूछताछ में किसी ने भी संतोषजनक जवाब नहीं दिया है। सभी से सिविल लाइंस थाने में बुलाकर पूछताछ की गई थी, लेकिन मुख्यमंत्री को थाने आने से छूट दी गई है। ज्ञात हो कि 19 फरवरी की आधी रात 12 बजे मुख्यमंत्री केजरीवाल के सिविल लाइंस स्थित आवास पर मुख्य सचिव अंशु प्रकाश को बुलाया गया था। वहां पहले से एक कमरे में केजरीवाल, सिसोदिया, आप के 11 विधायक व वीके जैन मौजूद थे। मुख्य सचिव का आरोप है कि बैठक के दौरान आप के विधायकों ने उनके साथ बदसुलूकी व मारपीट की।

वहीं, मुख्य सचिव अंशु प्रकाश के साथ मारपीट के मामले में पूछताछ के लिए दिल्ली पुलिस द्वारा मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को भेजे गए नोटिस पर आम आदमी पार्टी (आप) ने तीखी प्रतिक्रिया दी है। साथ ही इस मामले को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी जोड़ दिया है। दिल्ली AAP के मुख्य प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने कहा कि यह सब कुछ मोदी जी के इशारे पर किया जा रहा है।

केजरीवाल को इसलिए तंग किया जा रहा है, क्योंकि दिल्ली सरकार अच्छा काम कर रही है। सौरभ भारद्वाज का दावा है कि उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन पर भी झूठे केस दर्ज किए गए। इसके अलावा झूठे केस दर्ज कराकर आप विधायकों को गिरफ्तार करवाया गया। पुलिस झूठे केस दर्ज कर रही है।

By JP Yadav