नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। निर्भया केस में दोषी विनय शर्मा की दया याचिका राष्ट्रपति के पास पहुंचने के बीच  दिल्ली पुलिस भी सक्रिय हो गई है। वहीं, वसंत विहार सामूहिक दुष्कर्म मामले के एक दोषी विनय शर्मा की दया याचिका राष्ट्रपति के पास पहुंचने के बाद तिहाड़ जेल प्रशासन इस मामले से जुड़े सभी दोषियों पर 24 घंटे नजर रख रहा है। इस मामले में अक्षय, मुकेश, विनय शर्मा व पवन को मौत की सजा मिली हुई है। अक्षय व मुकेश तिहाड़ के जेल नंबर दो में बंद हैं तो वहीं विनय शर्मा जेल नंबर चार में बंद है।

जेल सूत्रों ने बताया कि शुक्रवार को अक्षय व मुकेश की दिनचर्या अन्य दिनों की तरह ही रही, लेकिन वे किसी से बात करते नहीं देखे गए। इन दोनों ने किसी भी कार्य में भाग नहीं लिया। इन दोनों पर नजर रखने के लिए एक जवान 24 घंटे इनके सेल के बाहर तैनात हैं और इनकी हर गतिविधि पर नजर रखे हुए हैं। इसके अलावा जेल नंबर चार में बंद विनय शर्मा पर भी जेल प्रशासन पूरी नजर रख रहा है। विनय शर्मा से मिलने के लिए जेल के एक वरिष्ठ अधिकारी शुक्रवार को गए थे और उससे बातचीत की थी।

विनय शर्मा पर नजर रखने के लिए एक वार्डर के साथ एक जवान को भी तैनात किया गया है। पवन मंडोली के जेल नंबर-14 के हाई सिक्योरिटी वार्ड में बंद है। वहां उस पर पूरी निगरानी रखी जा रही है। जेल सूत्रों ने बताया कि इनकी निगरानी में तैनात जवानों को निर्देश दिए गए हैं कि जैसे ही इनकी गतिविधि संदिग्ध लगे, इसकी जानकारी अधिकारियों को दें। इसके अलावा इन्हें जो भी खाने पीने को दें उसकी जांच करें।

दिल्ली-एनसीआर की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां पर करें क्लिक 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस