मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जागरण संवाददाता, नई दिल्ली। यह समय का फेर है। वर्षो तक सत्ता और राष्ट्रीय राजनीति में अहम रहे पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री पी. चिदंबरम में अब तिहाड़ की उस जेल में हैं, जहां दुर्दात आतंकियों से लेकर अलगाववादी तक कैद हैं। जेल संख्या-7 में गुरुवार पूरी रात बिताने के बाद शुक्रवार को देर से सोकर उठने के कारण वह सुबह की प्रार्थना में शामिल नहीं हुए, लेकिन उनका पूरा दिन सामान्य कैदी की तरह बीता और वह सामान्य नजर आ रहे थे। उनसे मिलने वालों में वकीलों के अलावा बेटे कार्ति भी रहे। तिहाड़ से निकलते वक्त कार्ति के चेहरे पर पिता के लिए चिंता का भाव था।

विशेष सीबीआइ अदालत ने गुरुवार को आइएनएक्स मीडिया मामले में चिदंबरम को 19 सितंबर तक न्यायिक हिरासत में तिहाड़ जेल भेजा था। सूत्रों के मुताबिक चिदंबरम की गुरुवार की रात कठिनाइयों में बीती। वह फर्श पर दरी पर सोए। सेल में एक पंखा लगा है। उमस से कुछ परेशान हुए। जेल की दिनचर्या उन्हें रास नहीं आई। सुबह कुछ देरी से उठे, जिसकी वजह से सुबह की प्रार्थना में कैदियों के साथ शामिल नहीं हुए। प्रार्थना में शामिल होना या न होना कैदी की इच्छा पर निर्भर करता है।

कैंटीन से आ रहा पानी
तिहाड़ में कैदियों के लिए कैंटीन की सुविधा है। चिदंबरम वहां से पानी की बोतल मंगाकर इस्तेमाल कर रहे हैं, लेकिन खाना वही खा रहे हैं जो सभी कैदियों के लिए जेल की रसोई में बनता है। नाश्ते से लेकर दोपहर और रात का भोजन उन्होंने किया। जेल अधिकारियों का कहना है कि अभी तक उन्होंने कोई विशेष आग्रह नहीं किया है।

खूब पढ़ रहे अखबार
चिदंबरम जिस सेल में हैं, उसमें टेलीवीजन नहीं है। वह चाहें तो पास की बैरक में जाकर अन्य कैदियों के साथ टेलीविजन देख सकते हैं, लेकिन उन्होंने शुक्रवार को ऐसा नहीं किया। उनके पास वह तमाम अखबार आ रहे हैं, जो जेल प्रशासन कैदियों के लिए मंगाता है। यदि उन्हें कोई खास अखबार मंगाना हो तो मंगा सकते हैं, लेकिन अभी तक उन्होंने ऐसी कोई मांग नहीं की है। शुक्रवार को उनका अधिकांश समय अखबारों के बीच बीता।

पी चिदंबरम से संबंधित खबरें यहां पढ़ें

जेल नंबर-7 में हैं यासीन मलिक व क्रिश्चियन मिशेल
जेल नंबर-7 में अलगाववादी नेता यासीन मलिक, अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर घोटाले के आरोपित क्रिश्चियन मिशेल भी बंद हैं, लेकिन चिदंबरम की सेल वहां से काफी दूर है। उनकी सेल दो बैरकों के बीच बनी है, ताकि वार्ड में एकाकीपन न रहे।

आइएनएक्स मीडिया मामला
सीबीआइ ने 15 मई 2017 को आइएनएक्स मीडिया मामले में एफआइआर दर्ज की थी। आरोप है कि चिदंबरम के वित्त मंत्री रहने के दौरान 2007 में 305 करोड़ रुपये की विदेशी धनराशि प्राप्त करने के लिए आइएनएक्स मीडिया समूह को दी गई एफआइपीबी (विदेशी निवेश संव‌र्द्धन बोर्ड) मंजूरी में अनियमितताएं हुई। इस मामले में ईडी ने पिछले साल मनी लां¨ड्रग का मामला दर्ज किया था। सीबीआइ और ईडी केस में जांच कर रही हैं कि कैसे पी चिदंबरम के बेटे कार्ति को 2007 में एफआइपीबी से आइएनएक्स मीडिया के लिए मंजूरी मिल गई थी।

यह भी पढ़ें: तिहाड़ जेल से बैरंग लौटी कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल, जानें क्‍यों नहीं हुई चिदंबरम से मुलाकात

यह भी पढ़ें: INX Media case:आखिरकार चिदंबरम भेजे गए तिहाड़ जेल, फर्श पर गुजरी रात

आइएनएक्स मीडिया के निदेशक पीटर मुखर्जी और इंद्राणी मुखर्जी ने चिदंबरम से मुलाकात की थी। इंद्राणी सरकारी गवाह बन चुकी हैं।

Posted By: Arun Kumar Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप