नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। न्यूनतम समर्थन मूल्य पर कानून बनाने समेत 6 मांगों को लेकर दिल्ली-एनसीआर के चारों बार्डर (सिंघु, शाहजहांपुर, टीकरी और गाजीपुर) पर किसानों का आंदोलन एक साल बाद भी जारी है। बुधवार को भी दिल्ली के बार्डर पर गहमागहमी रही, हालांकि, यूपी बार्डर पर किसान प्रदर्शनकारी बेहद कम संख्या में दिखे। इस बीच भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी किसानों को नए ट्रैक्टर दें दो धरना स्थल से मोदी जिंदाबाद के नारे लगाते हुए वापस घर चले जाएंगे।

राकेश टिकैत ने यूपी गेट पर मीडिया से बातचीत में कहा कि कांग्रेस सरकार ने किसानों को ट्रैक्टर दिए थे। ऐसे में नरेंद्र मोदी सरकार को भी बड़ा दिल दिखाना चाहिए और किसानों को ट्रैक्टर देने चाहिए। राकेश टिकैत ने कहा कि कांग्रेस के पूर्व मुख्यमंत्री नारायण दत्त तिवारी का जिक्र करते हुए कहा कि हमारे प्रधानमंत्री उनसे कमजोर नहीं हैं जो किसानों के नुकसान की भरपाई न कर सकें। यदि प्रधानमंत्री बड़ा दिल दिखाते हैं तो किसान जयकारा लगाते हुए घर वापस जाएगा। राकेश टिकैत ने कांग्रेस के पूर्व मुख्यमंत्री नारायण दत्त तिवारी का नाम लेते हुए कहा कि इन लोगों से पीएम मोदी कमजोर तो नहीं हैं न, जो ट्रैक्टर न दे सकें। नरेन्द्र मोदी सरकार को किसानों को नए ट्रैक्टर देने चाहिए।

आंदोलन का अंत केंद्र सरकार पर निर्भर

आंदोलन वापसी पर राकेश टिकैत का कहना है कि केंद्र सरकार जब चाहे आंदोलन वापस हो जाएगा। उनका कहना है कि केंद्र सरकार हमारी मांगों को मान लें तो हम तत्काल आंदोलन वापस ले लेंगे। 

किसान नहीं चाहता सड़कों पर बैठना

राकेश टिकैत का कहना है कि कृषि से जुड़े मसलों का किसान भी समाधान चाहता है। किसी को पसंद नहीं है कि वह सड़कों पर बैठे। किसान नेता राकेश टिकैत का यह भी कहना है कि केंद्र सरकार की ओर से सकारात्मक रुख और संदेश मिला है। ऐसे में आने वाले दिनों में बात बन सकती है।

वहीं, कृषि कानूनों की वापसी की मांग को लेकर आंदोलन खड़ा करने वाले भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) के नेता और प्रवक्ता राकेश टिकैत ने किसान आंदोलन की वापसी पर बड़ा बयान दिया है। राकेश टिकैत ने कहा कि किसानों का आंदोलन तब खत्म होगा जब सरकार एमएसपी और ट्रैक्टर वाली मांगे मानेगी।

जानिये- क्यों नए ट्रैक्टर की मांग कर रहे राकेश टिकैेत

भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत का कहना है कि एक साल के आंदोलन के दौरान किसानों के 150 टैक्टर टूट चुके हैं। उन्होंने पिछले दिनों सवालिया लहजे में पूछा था कि क्या देश का प्रधानमंत्री उन्हें ट्रैक्टर नहीं दे सकता, वो भी जब वो इतने मजबूत प्रधानमंत्री हैं। साथ ही कहा कि कांग्रेस के नारायणदत्त तिवारी मुख्यमंत्री थे तब मुजफ्फरनगर में हुए आंदोलन में जो भी नुकसान हुआ था, उन्होंने किसानों को दिया था। जब कांग्रेस दे सकती है तो भाजपा क्यों नहीं ? पीएम मोदी किसानों को नए ट्रैक्टर दे सकते हैं। बता दें कि आंदोलन के दौरान कुछ ट्रैक्टरों को पुलिस ने जब्त किए हैं, उन्हें वापस देने की मांग भी हो रही है। इसके अलावा, इस दौरान कुछ ट्रैक्टर टूटे भी हैं।

Edited By: Jp Yadav