नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। दिल्ली की सीमाओं पर तीन कृषि सुधार कानूनों को लेकर बंद टीकरी बार्डर को फिलहाल 11 माह बाद खोलने की कार्रवाई शुरू हो गई है। इसी कड़ी में दिल्ली पुलिस के उच्च अधिकारियों ने बृहस्पतिवार दोपहर इस बार्डर का दौरा किया गया और बैरिकेडिंग को हटाने की कार्रवाही शुरू करवाई। दिल्ली पुलिस की ओर से दिल्ली से बहादुरगढ़ जाने वाली लेन से जर्सी बैरियर, पत्थर, ट्रक व अन्य अवरोधक हटाकर सफाई शुरू करवाई जा रही है। यहां पर सड़क खोदकर लगाई गई नुकीली कीलें भी निकाली जा रही हैं। इन सब चीजों को हटाने के बाद यातायात सामान्य हो सकेगा। इससे लाखों वाहन चालकों को सुविधा होगी।

जानकारी के अनुसार पुलिस की कार्रवाही को देखकर ये अंदाजा लगाया जा रहा है कि अगले एक-दो दिन में बार्डर का यह रास्ता खोलकर पुलिस की ओर से यहां पर यातायात बहाल कर दिया जाएगा। सुप्रीम कोर्ट ने भी किसानों के आंदोलन को देखते हुए कुछ दिन पहले टिप्पणी की थी कि कोई हमेशा के लिए सड़क को बंद नहीं कर सकता है। प्रदर्शन का अधिकार लोकतंत्र में सभी को है मगर रास्ता बंद करके आमजन के लिए मुसीबत पैदा करने का अधिकार किसी को नहीं है। इससे पहले गाजीपुर बार्डर पर किसान नेता राकेश टिकैत की ओर से एक टेंट हटाकर दिल्ली पुलिस से अपनी बैरिकेड हटाने के लिए कहा गया था। जिससे यातायात बहाल हो सके।

हालांकि दिल्ली पुलिस ने अभी साफ नहीं किया है कि बार्डर खोला जाएगा या नहीं। 26 नवंबर 2020 को टीकरी बार्डर बंद किया गया था। तब से लेकर अब तक बार्डर बंद है। बार्डर खुलवाने के लिए लोगों ने दिल्ली हाईकोर्ट, सुप्रीम तक गुहार लगा रखी है।

अधिकारियों के दौरे के बाद बार्डर पर हलचल

बृहस्पतिवार को लगभग ढाई बजे दिल्ली पुलिस के स्पेशल सीपी सतीश गोलचा, ज्वाइंट सीपी अतुल कटियार, डीसीपी परविंदर, एसीपी महेंद्र कुमार, मुंडका थाना प्रभारी गुलशन नागपाल आदि ने टीकरी बार्डर मेट्रो स्टेशन के पास बार्डर का दौरा किया। यहां पर उन्होंने बताया था कि एक तरफ का रास्ता दिल्ली से रोहतक का साफ करवाया जा रहा है। बैरिकेड भी हटाए जाएंगे। वे एक तरफ का रास्ता क्लियर करेंगे। यातायात बहाल कब तक होगा इस बारे में उनकी ओर से कोई जानकारी मौके पर नहीं दी गई। अधिकारियों के वहां पहुंचने के बाद इस बात की अधिक संभावना बन गई है कि अगले एक दो दिनों में यहां से यातायात सामान्य हो जाएगा।

Edited By: Vinay Kumar Tiwari