नई दिल्ली(प्रेट्र)। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्लीवासी वरिष्ठ नागरिकों के लिए 'मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा योजना' को मंजूरी दे दी है। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने उप राज्यपाल द्वारा लगाई गई आपत्तियों को दरकिनार करते हुए योजना को हरी झंडी दे दी। मुख्यमंत्री तीर्थयात्रा योजना के तहत दिल्ली सरकार हर साल 77 हजार तीर्थयात्रियों का खर्च वहन करेगी।

केजरीवाल ने ट्वीट किया, ‘‘मुख्यमंत्री तीर्थयात्रा योजना मंजूर। सभी आपत्तियां दरकिनार।’’ इस योजना के तहत दिल्ली के 60 साल से अधिक उम्र के लोग पात्र होंगे। सरकार ने कहा कि योजना के तहत चयनित लोगों को 18 साल या इससे अधिक उम्र का एक अटेंडेंट साथ ले जाने की अनुमति दी जाएगी और उनका खर्च दिल्ली सरकार वहन करेगी। इसके अनुसार दिल्ली के 70 विधानसभा क्षेत्रों से हर साल 1,100-1,100 वरिष्ठ नागरिक नि:शुल्क तीर्थयात्रा कर सकेंगे।

तीन दिन दो रात की होगी यात्रा
 सरकार ने कहा कि इसके तहत तीर्थयात्रा की अवधि तीन दिन दो रात की होगी। नि:शुल्क तीर्थयात्रा योजना के तहत दिल्ली निवासी वरिष्ठ नागरिक दिल्ली - मथुरा - वृंदावन - आगरा - फतेहपुर सीकरी - दिल्ली , दिल्ली - हरिद्वार - रिषिकेश - नीलकंठ - दिल्ली , दिल्ली - अजमेर - पुष्कर - दिल्ली , दिल्ली - अमृतसर - वाघा बॉर्डर - आनंदपुर साहिब - दिल्ली , और दिल्ली - वैष्णो देवी - जम्मू - दिल्ली मार्गों पर धार्मिक यात्रा कर सकेंगे।

चयनित लोगों का होगा बीमा
सरकार ने एक बयान में कहा कि आवेदकों को स्व-प्रमाणित प्रमाणपत्र देना होगा कि उनके द्वारा दी गई सभी सूचना सही है और उन्होंने पूर्व में योजना का लाभ नहीं उठाया है। बयान में कहा गया कि तीर्थयात्रा के लिए चयनित लोगों का एक-एक लाख रुपये का बीमा होगा।

जानिए- क्या है खास
1. दिल्ली का नागरिक होना चाहिए।
2. आयु 60 साल से अधिक होनी चाहिए।
3. योजना के लिए चयनित वरिष्ठ नागरिक अपने साथ 18 साल से अधिक उम्र का एक सहयोगी भी साथ ले जा सकेंगे, जिसका भी पूरा खर्च सरकार उठाएगी।
4. सरकारी अधिकारियों और कर्मचारियों को इस योजना का लाभ नहीं मिलेगा।
5. इस योजना का लाभ उठाने वाले व्यक्ति को सेल्फ सर्टिफिकेशन से बताना होगा कि उसने सभी सही सूचनाएं दी हैं और उसने पहले इस योजना का लाभ नहीं उठाया है।
6. तीर्थयात्रा के चयनित व्यक्तियों का एक लाख रुपये का बीमा होगा।
7. एसी बसों से तीर्थयात्रा कराई जाएगी। खाने-नाश्ते की व्यवस्था भी सरकार की तरफ से की जाएगी।
8. सभी आवेदन पत्र ऑनलाइन भरे जाएंगे। आवेदन पत्र डिविजनल कमिश्नर ऑफिस, संबंधित विधायक के ऑफिस या तीर्थयात्रा कमेटी के ऑफिस से भरे जाएंगे।
9. लॉटरी ड्रॉ से लाभार्थियों का चयन किया जाएगा।
10. संबंधित विधायक तस्दीक करेंगे कि व्यक्ति दिल्ली का नागरिक है।

By Sanjeev Tiwari