नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। दिल्ली में गैंगवार की आशंका के बीच एक बार पुलिस प्रशासन ने अपनी जांच के पूरे एंगल को टिल्लू की तरफ करते हुए मोड़ कर जल्द ही किसी अंजाम पर पहुंचे की कोशिश में है। रोहिणी कोर्ट [Rohini Court] में पेशी के दौरान गैंगस्टर जितेंद्र मान उर्फ गोगी की हत्या के मामले में गैंगस्टर सुनील मान उर्फ टिल्लू ताजपुरिया पर कानून का शिकंजा कसता दिखाई दे रहा है। स्पेशल सेल और क्राइम ब्रांच को अब तक जो सुबूत मिले हैं। उसके आधार पर जल्द ही उसे आरोपित बनाया जा सकता है। सूत्रों की मानें तो पूछताछ के लिए उसे रिमांड पर लेने की तैयारी भी पुलिस ने शुरू कर दी है।

24 सितंबर को की गयी थी हत्या

दिल्ली-एनसीआर में दहशत फैलाने वाले गैंगस्टर गोगी की 24 सितंबर को रोहिणी कोर्ट में दो शूटरों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। इसके बाद सुरक्षाबलों ने मौके पर ही इन दोनों शूटरों जयदीप और राहुल जाटव उर्फ नितिन को भी मार गिराया था। इस मामले में पुलिस ने राहुल और जयदेव की मदद करने वाले दो आरोपितों उमंग और विनय को भी गिरफ्तार कर लिया है। वारदात से पहले यह दोनों हमलावरों को इन दोनों ने अपने ही हैदरपुर गांव स्थित घर में शरण दी थी। इसके साथ ही कपड़े व कार भी मुहैया कराई थी।

टिल्लू के खिलाफ सुबूत जुटा रही स्पेशल सेल

इनसे पूछताछ में पुलिस को पता चला है कि गैंगस्टर सुनील मान उर्फ टिल्लू ने गोगी विरोधी अन्य गैंगस्टरों के साथ मिलकर हत्या की साजिश रची थी। पूछताछ में मिली जानकारी के आधार पर क्राइम ब्रांच और स्पेशल सेल अब टिल्लू के खिलाफ सुबूत जुटा रही है। इसी कड़ी में जल्द ही कोर्ट में अर्जी दाखिल कर उसे रिमांड पर लेने की पुलिस की तैयारी है। स्पेशल सेल व क्राइम ब्रांच मंडोली जेल में जाकर भी टिल्लू से पूछताछ कर सकती है।

नेपाली मूल के शूटर की अभी नहीं सकी शिनाख्त

इसके अलावा घटना वाले दिन जयदीप और राहुल को कोर्ट के गेट पर मिलने वाले नेपाली मूल के शूटर की अभी शिनाख्त नहीं हो सकी है। इसके बारे में भी जांच पड़ताल चल रही है। हमलावरों की मदद करने वाले दोनों आरोपितों उमंग यादव और विनय यादव को दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने तीन दिन के लिए रिमांड पर लिया है।

पूछताछ में मिल सकती है अहम जानकारियां

पुलिस को उम्मीद है कि इन तीनों से पूछताछ में गोगी हत्याकांड से जुड़ी कई अहम जानकारियां मिल सकती हैं, जिससे टिल्लू पर कानून का शिकंजा और कसा जा सकेगा। जेल से टिल्लू घटना वाले दिन 24 सितंबर को दोनों हमलावर समेत साजिश में शामिल अन्य से लगातार संपर्क में था। रोहिणी कोर्ट के सीसीटीवी कैमरे की फुटेज व राहुल व जयदीप के मोबाइल की जांच के आधार पर 25 सितंबर की रात ही स्पेशल सेल ने इन दोनों को हैदरपुर गांव से दबोच लिया था।

चेकिंग के बाद ही रोहिणी कोर्ट में प्रवेश

वहीं, रोहिणी कोर्ट में गोगी की हत्या के बाद सुरक्षा के इंतजाम कड़े कर दिए गए हैं। किसी को भी बिना जांच के कोर्ट में प्रवेश नहीं करने दिया जा रहा है। वकीलों व पुलिस कर्मियों को भी आइ कार्ड देखने के बाद ही प्रवेश मिल रहा है। इससे कोर्ट के बाहर लंबी लाइन लग गई। परिसर में प्रवेश करने वाले वाहनों की भी चेकिंग की जा रही है।

Edited By: Prateek Kumar